Home / Biography / अंजलि इला मेनन की जीवनी-Anjolie Ela Menon Biography in Hindi

अंजलि इला मेनन की जीवनी-Anjolie Ela Menon Biography in Hindi

अंजलि इला मेनन की जीवनी-Anjolie Ela Menon Biography in Hindi

जन्म:1940, वेस्ट बंगाल

कार्यक्षेत्र: चित्रकारी

Anjolie Ela Menon भारत की बेहतरीन समकालीन कलाकारों में से एक हैं। उनके द्वारा बनाये गए paintings दुनिभर के महत्वपूर्ण संग्रहालयों में रखे हुए हैं। सन 2006 में कैलिफ़ोर्निया के ‘एशियन आर्ट म्यूजियम ऑफ़ सन फ्रांसिस्को’ ने उनकी एक महत्वपूर्ण रचना ‘यात्रा’ का अधिग्रहण किया। उनकी painting का पसंदीदा माध्यम है तैल पर इसके अलावा वे शीशा और वाटर कलर जैसे दूसरे माध्यमों पर भी चित्रकारी करती हैं। Anjolie Ela Menon एक जानी-मानी भित्ति चित्रकार भी हैं। कला जगत में उनकी उपलब्धियों के लिए भारत सरकार ने सन 2000 में उन्हें पद्म श्री से सम्मानित किया।

ela-menon अंजलि इला मेनन की जीवनी-Anjolie Ela Menon Biography in Hindi
Figurative painter, Anjolie Ela Menon, speaks during an interview with Reuters in New Delhi in this March 9, 2007 file photo. Indian contemporary art is finally receiving the global recognition it deserves, but it should be enjoyed and not hoarded as an investment, says celebrated painter Menon. Picture taken March 9, 2007. REUTERS/Vijay Mathur/Files (INDIA)

प्रारंभिक जीवन

Anjolie Ela Menon का जन्म सन 1940 में बंगाल में हुआ था। उनकी प्रारंभिक शिक्षा तमिलनाडु के निलगिरी के लवडेल स्थित लॉरेंस स्कूल में हुआ। बचपन में ही उनका झुकाव art की ओर हो गया और 15 साल की उम्र तक वे अपने कुछ paintings बेच भी चुकी थीं। स्कूल की शिक्षा के बाद उन्होंने मुंबई के प्रसिद्ध सर जे.जे. स्कूल ऑफ़ आर्ट में कुछ समय तक अध्ययन किया और उसके बाद दिल्ली के प्रसिद्ध मिरांडा कॉलेज में दाखिला लिया जहाँ से उन्होंने अंग्रेजी साहित्य में डिग्री प्राप्त की। इसी दौरान वे इतालवी चित्रकार मोदिग्लिअनि और भारतीय चित्रकार एम.एफ. हुसैन की कला से बहुत प्रभावित हुईं। जब वे 18 साल की थीं तब उन्होंने अपनी अलग-अलग शैली के 53 चित्रों की प्रदर्शनी लगाई। उनकी रचनात्मक प्रतिभा के परिणामस्वरूप उन्हें फ्रांस सरकार ने एक छात्रवृत्ति दी जिसके माध्यम से उन्हें विश्व प्रसिद्ध ‘इकोल नेशनल सुपेरियर डे ब्यू आर्ट्स’ में शिक्षा ग्रहण करने का सौभाग्य प्राप्त हुआ।

भारत वापस आने से पहले उन्होंने यूरोप और पश्चिमी एशिया की यात्रा की जहाँ उन्होंने विभिन्न प्रकार की कलाओं का अध्ययन किया।

करियर

उनकी पहली एकल प्रदर्शनी सन 1958 में लगी थी जिसके बाद इनकी कलाकृतियों की लगभग 50 प्रदर्शनियां लग चुकी हैं।

Anjolie Ela Menon की कृतियां राष्ट्रीय आधुनिक कला संग्रह, नई दिल्ली, पीबाडी एसेक्स म्यूजियम, चंडीगढ म्यूजियम, द एशियन आर्ट म्यूजियम, सैन फ्रांसिस्को और जापान के फुकुओका म्यूजियम सहित दुनिया भर के कई निजी संग्रहों में रखी गई हैं।

Anjolie Ela Menon एक प्रसिद्ध भित्ति चित्रकार भी हैं और कई समारोहों में भारत का प्रतिनिधित्व कर चुकी हैं।

व्यक्तिगत जीवन

अध्ययन के उपरान्त फ्रांस से लौटने के बाद Anjolie Ela Menon  ने अपने बचपन के मित्र और भारतीय नौसेना के अधिकारी राजा मेनन से विवाह कर लिया। विवाह के उपरान्त उन्होंने भारत के अलावा अमेरिका, यूरोप के कई देश, जापान और पूर्व सोवियत संघ में रहकर कार्य किया है। इन देशों में उन्होंने अपने काम की 30 से भी ज्यादा एकल प्रदर्शनी आयोजित की है।

पुरस्कार और सम्मान

सन 2000 में भारत सरकार ने उन्हें पद्म श्री से सम्मानित कियाउनका नाम ‘लिम्का बुक ऑफ़ रिकार्ड्स’ में भी दर्ज हैसन 2013 में दिल्ली सरकार ने उन्हें ‘लाइफटाइम अचीवमेंट अवार्ड’ से सम्मानित कियासन 2013 में भारतीय कला और संस्कृति के क्षेत्र में बेहतरीन योगदान के लिए उन्हें दयावती मोदी पुरस्कार से सम्मानित किया गया

 

 

 

 

 

 

Check Also

download-231x165 Natasha Dalal Biography in Hindi | नताशा दलाल जीवन परिचय

Natasha Dalal Biography in Hindi | नताशा दलाल जीवन परिचय

Natasha Dalal Biography in Hindi | नताशा दलाल जीवन परिचय जीवन परिचय वास्तविक नाम नताशा …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close