Home / Biography / निरंकारी बाबा (बाबा हरदेव सिंह) की जीवनी | baba hardev singh ji Biography In Hindi

निरंकारी बाबा (बाबा हरदेव सिंह) की जीवनी | baba hardev singh ji Biography In Hindi

निरंकारी बाबा (बाबा हरदेव सिंह) की जीवनी | baba hardev singh ji Biography In Hindi

 

आज मैं बात कर रहा हूँ, एक baba hardev singh ji संत की जिसने लोगों की निश्वार्थ सेवा करके अपने निरंकारी संगठन की पोपुलिरिटी को भारत की सिमायों को तोड़कर विदेशों में पहुंचाया। विदेश में उनके सबसे ज्यादा followers कनाडा देश में है। पर 13 मई 2016 को उसी देश में एकcar accident में उनकी असामयिक मौत हो गई। यह खबर उनके फोलोवर्स के लिए किसी सदमें से कम नहीं। वे है Nirankari Baba, जिनका असली नाम Baba Hardev Singh है। आइये फ्रेंड इस Wiki द्वारा उनके life के कुछ रंगों को जानते हैं….

Nirankari Baba (Baba Hardev Singh) Hindi Biography (Wiki)

Childhood & Parents

baba hardev singh ji का जन्म दिल्ली के एक सिख परिवार में हुआ था। उनके पिता गुरबचन सिंह एक सतगुरु थे। उनकी माँ का नाम कुलवंत कौर है।

baba hardev singh ji के पिता का निरंकारी समुदाय (संगठन) का तीसरा गुरु होने के कारण उनका बचपन आध्यात्मिकता में बिता, जिसका उनके मन और विचार बहुत प्रभाव पड़ा।

Education

उनकी प्रारंभिक शिक्षा-दीक्षा घर पर हुई और आगे की पढ़ाई के लिए उनका एडमिशन रोसरी पब्लिक स्कूल, delhi में कर दी गई। पर 1963 में इनकी स्कूली शिक्षा यदाविन्द्र पब्लिक स्कूल, पटियाला से पूरी हुई। लेकिन उन्होंने अपनी college की पढ़ाई delhi universeity से की।

Nirankari Organisation

1971 में अपने पिता की तरह उन्होंने निरंकारी सेवा दल को ज्वाइन कर ली और लोगों की निश्वार्थ सेवा करने लगे।

1980 में उनके पिता की हत्या कर दी गई। जिसके कारण संत निरंकारी मिशन के प्रमुख का पद खाली हो गया। फिर सभी के सर्वसम्मति से baba hardev singh ji  को इस मिशन का प्रमुख बनाया गया। इस तरह वे निरंकारी समुदाय के अगले यानि चौथे सतगुरु हुए।

baba hardev singh ji के पूर्वज लाख कोशिशो के बावजूद इस मिशन को भारत के बाहर ना फैला सके। पर बाबा हरदेव के प्रभाव से यह संगठन दिन दुगुनी और रात चौगानी फैलती गई। यहीं कारण है कि आज baba hardev singh ji के अनुयायी केवल भारत में ही नहीं, बल्कि बड़ी संख्या में विदेशों में भी है।

2009 के एक रिपोर्ट के अनुसार इस संगठन का 100 ब्रांच 27 देशों में जन सेवा का कार्य कर रही है।

Death

13 मई 2016, शुक्रवार को कनाडा में हुए कार एक्सिडेंट में 62 वर्षीय baba hardev ji की मौत हो गई, जो उनके फोलोवर्स के लिए बड़ा ही दुखदायी खबर है।

Marriage & Wife

Nirankari Baba का विवाह 1958 में सविन्दर कौर से हुआ था।

 

–यहां पढ़िए बाबा हरदेव सिंह के Anmol Vichar विचार, जिन्हें अपनाने पर हर इंसान के जीवन में सुख-शांति बनी रहती है।

बाबा हरदेव सिंह Quotes In Hindi 

1-सेवा करनी है तो घड़ी मत देखो।
प्रसाद लेना है तो स्वाद मत देखो।
सत्संग सुनना है तो जगह मत देखो।
करनी है तो स्वार्थ मत देखो।
समर्पण करना है तो खर्चा मत देखो।
रहमत देखनी है जरुरत मत देखो।

 

 

2-समय दिखता नहीं है, लेकिन बहुत कुछ दिखा जरुर देता है।

3-कुछ ऐसा काम करो कि आपके माता-पिता कहें, हे प्रभु! हमें हर जन्म में ऐसी ही संतान देना।

4-कभी भी अपने ऊपर से विश्वास मत खोओ, तुम इस विश्वास में कुछ भी कर सकते हो।

5-आज ईश्वर की आराधना करना ना भूलें।
क्योंकि ईश्वर भी तुम्हें जगाना भुला नहीं।

6-वो जो करता है, सही करता है।
जिसमे मेरी ख़ुशी हो, वही करता है।
भरोसा है मुझे मेरे सतगुरु पे, वो हर कदम मुझे अपने साथ रखता है।

7-मिट्टी से, फिर मिट्टी पर और फिर मिट्टी में,
औकात-ए-इंसान ये है तो फिर गुरुरु कैसा।

8-बेहतरीन इन्सान अपनी मीठी जुबान से ही जाना जाता है, वरना अच्छी बातें तो दीवारों पर भी लिखी होती है।

9-दुसरो के लिए जीना ही असल जीना है.

10-हमारा ढृढ़ निश्चय दर्पण की तरह होना चाहिए।
दर्पण के हजारों टुकडें हो जाने के बाद भी वह प्रतिबिंब दिखाना बंद नहीं करता है।

 

Check Also

एस. एच. रज़ा की जीवनी - S. H. Raza Biography in Hindi

एस. एच. रज़ा की जीवनी – S. H. Raza Biography in Hindi

Sayed Haider “S. H.” Raza was an Indian painter चित्रकार who lived and worked in France …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close