ईश्वर कि मर्जी पर रहे खुश – Hindi Motivational Story

0
78

ईश्वर कि मर्जी पर रहे खुश – Hindi Motivational Story:एक बच्चा अपनी माँ के साथ खरदारी करने एक दुकान पर गया तो दुकानदार ने उसका मासूम चेहरा देख कर टोफियो का डिब्बा खोला और उसे आगे करके कहा,’लो जितनी चाहे टोफिया ले लो |

लेकिन बच्चे ने उसे बेहद शालीनता से मना कर दिया | दुकानदार ने दुबारा कहा लेकिन बच्चे ने खुद टोफिया नहीं ली |

बच्चे कि माँ ने बच्चे को टोफिया ले लेने के लिए कहा | लेकिन बच्चे ने खुद टोफिया लेने के बजाए दुकानदार के आगे हाथ फेला दिया और कहा,’आप खुद ही देदो अंकल|’ दुकानदार ने टोफिया निकलकर उसे देदी तो बच्चे ने दोनों जेंबो में दाल ली |

वापस आते वक्त उसकी माँ ने पुचा कि ‘जब दुकानदार ने डिब्बा आगे किया तब टॉफी क्यों नहीं ली और उन्होंने खुद निकलकर दी तब ले ली ? इसका क्या मतलब ?’ बच्चे ने बड़े मासूमियत से जवाब दिया कि ‘माँ मेरे हाथ छोटे हैं खुद निकलता तो एक या दो टोफिया आती |

अंकल के हाथ बड़े थे, उन्होंने निकली तो देखो कितनी सारी मिल गई’

ठीक इसी तरह हमें उस ईश्वर कि मर्जी में खुश रहना चाहिए | क्या पता वह किसी दिन हमें पूरा सागर देना चाहता हो और हम अज्ञानतावश बस एक चम्मच लिए ही खड़े हो |ईश्वर कि मर्जी पर रहे खुश Hindi Motivational Story,ईश्वर कि मर्जी पर रहे खुश short Hindi Motivational Story .bhagwaan ki marji sachhi kahani

SHARE

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here