ई. एम. एस. नंबूदरीपाद-Biography of E M S Namboodiripad in Hindi

0
81

e m s namboodiripad photos,post communist russia

Comrade E.M.S. Namboodiripad was one of the foremost leaders of the Communist movement in India and one of the founding leaders of the Communist Party of India (Marxist).

ई. एम. एस. नंबूदरीपाद-Biography of E M S Namboodiripad in Hindi

राजनेता

स्वतंत्रता सेनानी

जन्मः 13 जून 1909, मलप्पुरम, केरल

मृत्युः 19 मार्च 1998

कॅरिअरः राजनीति
e m s namboodiripad photos,

एलमकुलम मनक्कल सनकरन नंबूदरीपाद एक communist नेता और केरल के पहले मुख्यमंत्री थे। वो किसी भी भारतीय राज्य के पहले गैर कांग्रेसी मुख्यमंत्री थे। उन्होंने देश के स्वतंत्रता संग्राम में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई और इसके लिए कई बार जेल भी गए। वह देश की आज़ादी में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाले नेताओं में से एक थे, जिन्हें आज भी याद किया जाता है। इनके नेतृत्व में पहली बार communist पार्टी को साल 1957 के विधानसभा चुनाव में केरल की सत्ता में आने का अवसर मिला। अपने मुख्यमंत्री कार्यकाल के दौरान उन्होंने शिक्षा और भूमि समयावधि प्रणाली में बड़ा बदलाव किया तथा केरल में प्रबल हो चुके जातिवाद तंत्र के खिलाफ भी संघर्ष किया। इस कारण Namboodiripad  का नाम भारतीय राजनीति के  इतिहास में स्वर्णिम पन्नों पर दर्ज हो गया और राज्य के लिए किए गए उनके कार्यों को आज भी याद किया जाता है।

E M S Namboodiripad प्रारंभिक जीवन

एलमकुलम मनक्कल शंकरन अथवा ई. एम. एस. नंबूदरीपाद का जन्म 13 जून 1909 को केरल के मलप्पुरम में हुआ था। उनका जन्म उच्च जाति के नंबूदरी ब्राह्मण परिवार में हुआ था। उनका जन्म स्थान एलमकुलम पैरिनथलमन्नातुलक था, जो वर्तमान में मलाप्पुरम जिले में है। छोटी सी आयु में वह नंबूदरी समुदाय में जातिवाद तंत्र और रूढि़वाद के खिलाफ लड़ने वाले वीटी भट्टाथिरिपाद, एम आर भट्टाथिरपाद और ऐसे ही अन्य लोगों से प्रभावित हो गए। अपने कॉलेज के दिनों में वह भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस में शामिल हो गए और भारतीय स्वतंत्रता संग्राम आंदोलन में सक्रिय भाग लिया।

E M S Namboodiripad कॅरिअर

वर्ष 1931 में ईएमएस कॉलेज छोड़कर भारतीय स्वतंत्रता संग्राम में शामिल हो गए।  सत्याग्रह आंदोलन के दौरान उन्हें जेल भी जाना पड़ा। उन्हें 1934 में कांग्रेस समाजवादी पार्टी में ऑल इंडिया ज्वाइंट सेक्रेटरी नियुक्त किया गया।  इस दौरान Namboodiripad पहली बार मार्क्स के सिद्धांतों से अवगत हुए। 1936 में पांच सदस्यों के साथ मिलकर उन्होंने केरला communist पार्टी के संस्थापक समूह की स्थापना की। बाद में उन्होंने केरल में सामंतवाद विरोधी और साम्राज्यवाद विरोधी शक्तिशाली आंदोलन की नींव रखी। उन्होंने केरल को एक भाषाई राज्य के तौर पर एकजुट करने में अहम भूमिका निभाई।

वर्ष 1939 में ईएमएस मद्रास प्रांतीय विधानसभा के लिए निर्वाचित हुए। वर्ष 1941 में उन्हें भारतीय कम्यूनिस्ट पार्टी के केंद्रीय समिति में शामिल किया गया। 1950 में वह Communist Party of India (CPI) के पोलिट ब्यूरो के सदस्य बने और इसके सचिवालय के लिए चुने गए। केरल राज्य बनने के बाद राज्य के पहले चुनाव में कम्यूनिस्ट पार्टी प्रमुख दल के तौर पर उभरी। चुनाव में जीत का श्रेय ईएमएस को मिला और वह राज्य के मुख्यमंत्री बने। वह 1957-59 तक ही कुर्सी पर रह पाए क्योंकि उन्हें जब उन्हें गलत तरीके से बर्खास्त कर दिया गया। इसके बाद 1962 में उन्हें यूनाइटेड सीपीआई का जनरल सेक्रेटरी बनाया गया और इसके बाद केंद्रीय समिति और 1964 में सीपीआई एम के पोलित ब्यूरो में शामिल हुए। 1967 में Namboodiripad दोबारा मुख्यमंत्री बने और 1969 तक सत्ता में रहे। वर्ष 1977 में भारतीय communist पार्टी एम के महासचिव निर्वाचित हुए। उन्हें एक विख्यात पत्रकार के तौर भी जाना जाता था – उन्होंने अपने अनुभवों और विचारों पर कई किताबें भी लिखीं, जो केरल के लोगों के लिए हमेशा उपयोगी बनी रहेंगी। उनकी किताबें मलयालम और अंग्रेजी भाषा में थीं और उनका प्रकाशन ‘‘ ईएमएस संचिका‘‘ के नाम से ‘ चिंथा प्रकाशन‘ द्वारा किया गया।

ems namboodiripad books, योगदान

Namboodiripad ने अपना जीवन communist आंदोलन को मजबूत करने में गुजार दिया। उन्होंने लगभग 70 साल देश और समाज की सेवा में बिताये। वह एक विख्यात मार्क्सवादी तथा लेनिनवादी थे। Namboodiripad ने इन सिद्धांतों का उपयोग देश और समाज सेवा में किया। भूमि संबंधों, समाज, राजनीति, केरल, इतिहास और मार्क्सवाद दर्शन के संबंध में उनका साहित्यिक कार्य भारतीय साहित्य का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है।

Namboodiripad मृत्यु

19 मार्च 1998 को ईएमएस परलोक सिधार गए। उस समय वह 89 वर्ष के थे।

टाइमलाइन (जीवन घटनाक्रम)

1909: केरल के मलप्पुरम जिले में जन्म हुआ।

1931: स्वतंत्रता संघर्ष में भाग लिया।

1934: कांग्रेस समाजवादी पार्टी के अखिल भारतीय ज्वाइंट सेक्रेटरी बने।

1936: केरल में Communist Party of India (CPI) के संस्थापक समूह की स्थापना की।

1939: मद्रास प्रांतीय विधानसभा के लिए चुने गए।

1941: भारतीय communist पार्टी की केंद्रीय समिति के लिए चुने गए।

1950: Communist Party of India (CPI) के पोलिट ब्यूरो के सदस्य बने।

1957: केरल के Namboodiripad पहले मुख्यमंत्री बने।

1962: यूनाइटेड सीपीआई के महासचिव बने।

1967: दोबारा केरल के मुख्यमंत्री बने।

1977: Communist Party of India (CPI) की केंद्रीय समिति के महासचिव चुने गए।

1998: केरल के तिरुअनंतपुरम में मृत्यु हो गई।

 

Did you like this post on “ई. एम. एस. नंबूदरीपाद-Biography of E M S Namboodiripad in Hindi” Please share your comments.

Like US on Facebook

यदि आपके पास Hindi में कोई articles,motivational story, business idea,Shayari,anmol vachan,hindi biography या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें. हमारी Id है:[email protected].पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ PUBLISH करेंगे.

Read Also Hindi Biorgaphy Collection

Read Also Hindi Quotes collection

Read Also Hindi Shayaris Collection

Read Also Hindi Stories Collection

Read Also Whatsapp Status Collection In Hindi 

Thanks!

 

 

 

 

SHARE

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here