गुल पनाग का जीवन परिचय | gul panag Biography In Hindi

0
55

गुल पनाग का जीवन परिचय | gul panag Biography In Hindi

सक्षम अभिनेत्री और प्रभावशाली वक्ता:  गुलकीर्त कौर पनाग उर्फ़ गुल पनाग एक भारतीय फिल्म अभिनेत्री-वीओ आर्टिस्ट और राजनीतिज्ञ हैं।

gul-panag-Biography-Hindi
गुल पनाग का जीवन परिचय gul panag Biography In Hindi

जन्मस्थान- 3 जनवरी 1977

जन्मदिन- चंडीगढ़, पंजाब

कद- 5 फुट 7 इंच

gul panag की पहचान पूर्व मिस इंडिया या एक अभिनेत्री तक ही सीमित नहीं है, वे अच्छी वक्ता और स्पोर्ट पर्सन भी हैं। gul panag ने मिस इंडिया प्रतियोगिता के मंच से रूपहले पर्दे तक का सफर खामोशी से तय किया। दरअसल वे स्वयं को लंबी रेस का घोड़ा साबित करना चाहती हैं इसलिए कम मगर,गुणात्मक फिल्मों में अभिनय करना उनकी प्राथमिकता है।

चंडीगढ़ में पली-बढ़ी gul panag प्रारंभ से ही पढ़ने-लिखने में अच्छी थीं। सैन्य पृष्ठभूमि में बचपन बिताने वाली गुल की रूचि खेल-कूद में भी रही है। सार्वजनिक मंच पर अपने विचार रखने में भी gul panag बचपन से ही माहिर हैं। अपने व्यक्तित्व के विभिन्न पहलुओं को निखारने-संवारने वाली gul panag ने युवावस्था में कई राच्य स्तरीय और राष्ट्रीय प्रतियोगिताओं में पुरस्कार जीते। गणित से स्नातककी पढ़ाई के दौरान ही 1999 में आयोजित मिस इंडिया प्रतियोगिता में gul panag ने सशक्त भागीदारी पेश की। उन्हें मिस इंडिया यूनिवर्स की उपाधि से नवाजा गया। मिस यूनिवर्स प्रतियोगिता में भारत का प्रतिनिधित्व करने के बाद gul panag ने स्नातक की पढ़ाई पूरी की। धीरे-धीरे उनकी रूचि मॉडलिंग और अभिनय में होने लगी। कई टेलीविजन कमर्शियलों और धारावाहिक कश्मीर में अभिनय करने के साथ-साथ gul panag ने राजनीति विज्ञान में स्नातकोत्तर की डिग्री ली। धारावाहिक कश्मीर में अभिनय के दौरान gul panag ने अपनी अभिनय-क्षमता को करीब से महसूस किया और हिन्दी फिल्मों की ओर रूख करने की योजना बनायी।

मिस इंडिया प्रतियोगिता से मिली पहचान के बावजूद gul panag ने अपने फिल्मी सफर की शुरूआत धूप जैसी लीक से हटकर फिल्म से की। हालांकि,धूप में गुल ने सुधी दर्शकों को प्रभावित जरूर किया,पर उन्हें व्यापक पहचान नहीं मिल पायी। लगभग दो वर्ष के अंतराल पर gul panag की दूसरी फिल्म जुर्म प्रदर्शित हुई। बॉबी देओल और लारा दत्ता अभिनीत जुर्म में gul panag की मौजूदगी ने कोई खास प्रभाव दर्शकों पर नहीं छोड़ा। जुर्म ने बॉक्स ऑफिस पर दम तोड़ दिया। दर्शकों की इस अस्वीकृति ने गुल को एहसास दिलाया कि यदि,भीड़ में खुद को अलग साबित करना है, तो मुख्य धारा की बेतुकी फिल्मों से बेहतर है अच्छे विषय पर बनी फिल्मों में अभिनय करना। गुल के इसी प्रयास की पहली कड़ी साबित हुई डोर। डोर में पति के जीवन के लिए संघर्ष करती युवती की भूमिका में gul ने अपने दमदार अभिनय से दर्शकों को चकित कर दिया। gul panag के छोटे-से फिल्मी कैरियर में मील का पत्थर साबित हुई डोर। डोर के बाद बेहतरीन अभिनय का सिलसिला गुल ने जारी रखा। मनोरमा सिक्स फीट अंडर जैसी लीक से हटकर फिल्म में उन्होंने अपने अभिनय की गहरी छाप छोड़ी। लीक से हटकर फिल्मों के साथ-साथ मुख्य धारा की फिल्मों में भी gul अपनी उपस्थिति दर्ज कराती रही हैं। समर 2007, हेलो, स्ट्रेट और अनुभव में भी उन्होंने अपने अभिनय से दर्शकों का ध्यान आकर्षित किया। हालांकि,gul की पहचान मुख्य धारा की सफल अभिनेत्री के रूप में नहीं हो पायी है,फिर भी वे समीक्षकों की प्रशंसा हमेशा ही बटोरती आयी हैं।

अभिनय के साथ-साथ गुल सामाजिक और राष्ट्रीय सरोकारों से भी जुड़ी हैं। उन्होंने अभिव्यक्ति के आधुनिक माध्यम ब्लॉग पर भी अपनी उपस्थिति दर्ज करायी है। अपने ब्लॉग पर gul नियमित रूप से राजनीतिक और सामाजिक गतिविधियों पर विचार प्रकट करती रहती हैं। gul कहती हैं,मैं जो भी करती हूं पूरे दिल से करती हूं। अपने काम को लेकर हंगामा बरपाना मेरी फितरत नहीं है। उम्मीद है, gul यूं ही फिल्मों की चमकीली दुनिया में रहते हुए भी अपने सामाजिक और राष्ट्रीय सरोकारों से जुड़ी रहेंगी और अभिनेत्रियों की नयी पीढ़ी की प्रेरणास्रोत बनेंगी।

gul panag कैरियर की मुख्य फिल्में

वर्ष-फिल्म-चरित्र

2003-धूप- पीहू वर्मा

2005-जुर्म- सोनिया

2006-डोर- जीनत फातिमा

2007-मनोरमा सिक्स फीट अंडर- निम्मी

2008-समर 2007- विशाखा

2008-हेलो- प्रियंका

2009-स्ट्रेट- रेणु

2009-अनुभव-

आने वाली फिल्में- रण,ए रेक्टेंगुलर लव स्टोरी,हेलो डार्लिग।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here