Home / Motivational Stories / आईएएस रमेश घोलप ramesh gholap ias sucess story

आईएएस रमेश घोलप ramesh gholap ias sucess story

 आईएएस रमेश घोलप ramesh gholap ias sucess story

रंग-बिरंगी चूड़ियों की तरह उसका बचपन उतना रंग भरा नहीं था। हर सुबह जब वह लड़का अपनी मां के साथ चूड़ी बेचने निकलता था, तब दो वक़्त की रोटी के लिए उसके जीवन के संघर्ष की कहानी नये सिरे से शुरू होती थी। मां सड़कों पर जब-जब आवाज़ लगाती, ‘चूड़ी ले लो.. चूड़ी’, तो पीछे से वह लड़का तोतली आवाज़ में दोहराता।

 

कभी सड़कों पर चूड़ी बेच कर बीता बचपन, आज हैं IAS अफ़सर

परिस्थितियों ने जहां उसे जीवन के लिए लड़ना सिखाया, वहीं ग़रीबी, शराबी पिता और भूख ने एक सपने को जन्म दिया। कठिन परिश्रम और सच्ची लगन ने उस सपने को हक़ीकत का नाम दिया, जो आज लाखों लोगों के लिए प्रेरणा है। उसका नाम है ‘आईएएस रमेश घोलप’।

 

आईएएस रमेश घोलप ramesh gholap ias sucess story

india-best-ias-ramesh-gholap-inspiring-story

जिन्दगी के हर मोड़ ने ली परीक्षा, पर आईएएस रमेश घोलप कभी मंज़िल से भटके नहीं।

रमेश अभी झारखंड मंत्रालय के ऊर्जा विभाग मे संयुक्त सचिव हैं और उनकी संघर्ष की कहानी प्रेरणा बनकर लाखों लोगों के जीवन में ऊर्जा भर रही है। रमेश के पिता नशे की लत की वजह से अपने परिवार पर ध्यान नहीं देते थे। जीविका के लिए रमेश और उनकी मां को सड़कों पर जा कर चूड़ी बेचने के लिए विवश होना पड़ता था। इससे जो पैसे जमा होते थे, उसे पिता अपनी शराब पर खर्च कर देते थे।
आईएएस रमेश घोलप ramesh gholap ias sucess story
india-best-ias-ramesh-gholap-inspiring-story
रमेश के पास न रहने के लिए घर था और न पढ़ने के लिए पैसे। था तो सिर्फ़ हौसला, जो उनके सपनों को पूरा करने के लिए काफ़ी था। रमेश का बचपन उनकी मौसी को मिले सरकारी योजना के तहत इंदिरा आवास में बीता। वह वहां आजीविका की तलाश के साथ पढ़ाई करते रहे, लेकिन जिन्दगी को रमेश को अभी और परखना बाकी था।

मैट्रिक परीक्षा में कुछ दिन ही बाकी होंगे की रमेश के पिता की मृत्यु हो गई। इस घटना ने उनको झकझोर दिया, लेकिन जिन्दगी के हर उठा-पटक का सामना कर चुके रमेश हौसला नहीं हारे। विपरीत हालात में भी उन्होंने मैट्रिक की परीक्षा दी और 88.50 फीसदी अंक हासिल किए।

india-best-ias-ramesh-gholap-inspiring-story
रमेश बताते हैं कि उन्होंने वह दिन भी देखे हैं, जब घर में एक अन्न नहीं होता था। फिर पढ़ाई में खर्च उनके लिए बहुत बड़ी मुसीबत थी। रमेश आगे कहते हैं कि एक बार मां को सामूहिक ऋण योजना के तहत गाय खरीदने के नाम पर 18 हजार ऋण मिले, जिसको उन्होंने पढ़ाई करने के लिए इस्तेमाल किया और गांव छोड़ कर इस इरादे से बाहर निकले कि वह कुछ बन कर ही घर लौटेंगे।

शुरुआत में उन्होने तहसीलदार की पढ़ाई करने का फ़ैसला किया और तहसीलदार की परीक्षा पास कर तहसीलदार बने, लेकिन कुछ वक़्त बाद उन्होने आईएएस बनने को अपना लक्ष्य बनाया।

आईएएस रमेश घोलप ramesh gholap ias sucess story
india-best-ias-ramesh-gholap-inspiring-story

कोशिश करने वालों की कभी हार नही होती।

महाराष्ट्र के सोलापुर जिला के वारसी तहसील स्थित उनके गांव ‘महागांव’ में रमेश की संघर्ष की कहानी बच्चा-बच्चा जानता है। तंगहाली के दिनों में रमेश दीवारों पर नेताओं की घोषणाओं, दुकानों का प्रचार, शादी की पेंटिंग करते थे। इन सब से जो कुछ भी आमदनी होती थी, वह पढ़ाई पर खर्च करते थे।
कलेक्टर बनने का सपना आंखों में संजोए रमेश पुणे पहुंचे। हालांकि, पहले प्रयास में रमेश विफल रहे। लेकिन उन्होंने कभी हिम्मत नहीं हारी। वर्ष 2011 में एक बार फिर से यूपीएससी की परीक्षा दी। इसमें रमेश को 287वां स्थान प्राप्त हुआ। इस तरह उनका आईएएस बनने का सपना साकार हुआ।
आईएएस रमेश घोलप ramesh gholap ias sucess story
india-best-ias-ramesh-gholap-inspiring-story


जब अफ़सर बन पहुचे अपने गांव तो हुआ जोरदार स्वागत।

रमेश अपने गांव में बिताए कुछ आख़िरी यादों के साथ बताते हैं कि उन्होने अपनी मां को 2010 के पंचायती चुनाव लड़ने के लिए प्रोत्साहित किया था। उनको लगता था गांव वालों का सहयोग मिलेगा, लेकिन मांं को हार का सामना करना पड़ा। रमेश कहते हैं कि उसी दिन से उन्होंने यह प्रण किया था कि इस गांव में वह तभी अपने कदम रखेंगे जब, वह अफसर बन कर लौटेंगे।
आईएएस रमेश घोलप ramesh gholap ias sucess story
india-best-ias-ramesh-gholap-inspiring-story
आईएएस बनाने के बाद जब 4 मई 2012 को अफसर बनकर पहली बार गांव पहुंचे, तब उनका जोरदार स्वागत हुआ। आख़िर होता भी क्यों नही? वह अब मिसाल बन चुके थे। उन्होंने अपने हौसले के बलबूते यह साबित कर दिया था, अगर करना चाहों तो इस दुनिया में कुछ भी मुश्किल नहीं है।
इस कहानी से प्रेरणा लीजिए। सपने देखिए और चल पड़िए उसे पूरा करने।
please follow us on facebook

 

Read also category wise all stories
 Read also topic wise quotes collection (WhatsApp status)
तो दोस्तों अब बारी है आपके comments की, ये आर्टिकल आपको कैसा लगा comment के जरिये जरूर बताएं। आपके कमेंट से हमें प्रेरणा मिलती है और अच्छा लिखने की…… धन्यवाद !!!
अगर आपके‌ पास भी कोई हिंदी में लिखा हुआ प्रेरणादायक, प्रेरक, कहानी, कविता,  सुझाव  या ऐसा कोई लेख जिसे पढ़कर पढ़ने वाले को किसी भी प्रकार का मार्गदर्शन या फायदा पहुंचता है और आप उसे Share करना चाहते है तो आप अपनी फोटो और नाम के साथ हमें ईमेल करें। हमारी Email ID है  achhiduniya3@gmail.com पसंद आने पर हम उसे आपके नाम व फोटो के साथ अपनी वेबसाईट पर प्रकाशित करेंगें।

Advise- share this post to your friends and you can also use (quotes and pictures)  as  facebook status and whatsapp status

 Follow us for inspiring life changing posts

Check Also

Hindi-quote-on-never-giving-up1-524x288 धर्म का मर्म Hindi Inspiring Stories

धर्म का मर्म Hindi Inspiring Stories

धर्म का मर्म Hindi Inspiring Stories एक साधु शिष्यों के साथ कुम्भ के मेले में …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close