Home / Biography / Joy Mukherjee Biography In Hindi,जॉय मुखर्जी की जीवनी

Joy Mukherjee Biography In Hindi,जॉय मुखर्जी की जीवनी

 

Joy Mukherjee Biography In Hindi,जॉय मुखर्जी की जीवनी

1_Joy_Mukherjee Joy Mukherjee Biography In Hindi,जॉय मुखर्जी की जीवनी
Joy-Mukherjee

जन्मदिन:  27  फरवरी

हिंदी फिल्मों के आकर्षक अभिनेताओं  में शुमार Joy Mukherjee को फिल्मी पृष्ठभूमि उनके पिता शशिधर  मुखर्जी से विरासत में मिली। उन्होंने विरासत में मिली अभिनय प्रतिभा को निखारा-संवारा और धीरे-धीरे वे 60  के दशक के लोकप्रिय अभिनेताओं  की सूची में शामिल हो गए।

महिला प्रशंसकों के चहेते Joy Mukherjee के फिल्मी कॅरिअर  की शुरूआत पिता शशिधर  के होम-प्रोडक्शन की फिल्म लव इन शिमला से हुई। 1960  में बनी यह फिल्म Joy Mukherjee और सह-अभिनेत्री साधना के लिए अत्यंत सफल साबित हई।  लव इन शिमला में देव की भूमिका में Joy Mukherjeeके अभिनय की बेहद सराहना हुई। 1964  और 1966  में उन्होंने  दो और सफल फिल्में दीं-जिद्दी और लव इन टोकियो।

उन्होंने बहुत ही कम अवधि में अनेक फिल्मों में अपने अभिनय का परचम लहराया। आशा पारेख, ाधना, माला सिन्हा और सायरा  बानो जैसी सुप्रसिद्ध व सफल अभिनेत्रियों के साथ उनकी रोमांटिक जोडि़यां बेहद पसंद की गई। 1963  में बनी फिल्म फिर वहीं दिल लाया हूं Joy Mukherjee के कॅरिअर  की उल्लेखनीय फिल्म रही जिसमें उन्होंने अपने कॅरिअर  की सबसे यादगार भूमिका निभायी। देखते-ही-देखते Joy Mukherjee सफलता की बुलंदियों पर पहुंच गए। वक्त बीतता गया और धर्मेद्र, जितेंद्र, राजेश खन्ना जैसे अन्य अभिनेताओं  के उभरने से Joy Mukherjee की छवि धूमिल होने लगी। अपनी गिरती लोकप्रियता के मद्देनजर Joy Mukherjeeचुनींदा  फिल्में ही करने लगें। उन्होंने अभिनय के क्षेत्र में अपनी कला के प्रदर्शन के साथ-साथ फिल्मों के निर्माण और निर्देशन की ओर भी रूख  किया। दुर्भाग्यवश, फिल्म निर्माण-निर्देशन में भी उन्हें सफलता नहीं मिल पायी। फिल्मी कॅरिअर  से परे Joy Mukherjee ने छोटे पर्दे पर भी अपनी मौजूदगी दर्ज करायी। 2009  में उन्होंने  धारावाहिक ऐ दिल-ए-नादान में अपने अभिनय का प्रदर्शन किया।

Joy Mukherjee का परिवार हिंदी फिल्मों में रचा-बसा है। उनके मामा अशोक कुमार और किशोर कुमार की सफलता और लोकप्रियता किसी से छिपी नहीं है। उनकी भतीजी काजोल और भांजी रानी मुखर्जी हिंदी फिल्मों का अहम हिस्सा हैं। गौरतलब है कि Joy Mukherjee परिवार की तीसरी पीढ़ी इस समय हिंदी फिल्मों में सक्रिय है।

Joy Mukherjee हिंदी फिल्मों के बेहद सफल अभिनेताओं  की सूची में भले ही शामिल नहीं हो पाए हों, पर सिल्वर स्क्रीन के इस रोमांटिक अभिनेता पर फिल्माए  गए सुरीले और मधुर गीत आज भी उनके प्रशंसकों के दिलों में गूंजते हैं।

कॅरिअर  की मुख्य फिल्में

वर्ष-फिल्म-चरित्र

1960- लव  इन शिमला- देव कुमार मेहरा

1960- हम  हिन्दुस्तानी- सतेन्द्र नाथ

1962- उम्मीद

1962- एक  मुसाफिर एक हसीना

1963- फिर  वही दिल लाया हूं

1964- जिद्दी

1964- जी  चाहता हैं

1964- इशारा

1964- दूर  की आवाज

1964- आओ  प्यार करे

1965- बहू बेटी- शेखर

1966- ये  जिंदगी कितनी हसीन हैं

1966- साज और आवाज

1966- लव  इन टोकियो- अशोक

1966- शागिर्द- राजेश

1968- हमसाया (निर्माता-निर्देशक)

1968- एक  कली मुस्कायी

1968- दिल  और मुहब्बत- रमेश चौधरी

1969- दुपट्टा

1970- पुरस्कार- राकेश

1970- मुजरिम- गोपाल

1970- इंस्पेक्टर- राजेश

1970- एहसान

1970- आग  और दाग

1971- कहीं  आर कहीं पार

1972- एक  बार मुस्कुरा दो

1977- हैवान

1977- छलिया  बाबू (निर्देशक)

1985- इंसाफ  मैं करूंगा

 

 

Check Also

.-एच.-रज़ा-की-जीवनी-S.-H.-Raza-Biography-in-Hindi एस. एच. रज़ा की जीवनी - S. H. Raza Biography in Hindi

एस. एच. रज़ा की जीवनी – S. H. Raza Biography in Hindi

Sayed Haider “S. H.” Raza was an Indian painter चित्रकार who lived and worked in France …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close