Home / Biography / Cricketer Kedar Jadhav Biography In Hindi | Kedar Jadhav की जीवनी

Cricketer Kedar Jadhav Biography In Hindi | Kedar Jadhav की जीवनी

Cricketer Kedar Jadhav Biography In Hindi | Kedar Jadhav की जीवनी

 

Kedar-Jadhav-Biography-जीवनी-1-1 Cricketer Kedar Jadhav Biography In Hindi | Kedar Jadhav की जीवनी
Cricketer Kedar Jadhav Biography In Hindi | Kedar Jadhav की जीवनी

 

 

Kedar Jadhav | India में Cricket को धर्म की तरह माना जाता है। यदि इसे संवैधानिक रूप दे दिया जाए तो Cricket धर्म मानने वालों की तादाद हिन्दू – मुस्लिम धर्म मानने वालों से ज्यादा हो सकती है।

ऐसे में यदि कोई Cricket में अपना मुकाम बनाना चाहता है तो उसे केवल कड़ी मेहनत ही नहीं करना होगा, बल्कि उसे एक लंबे समय तक इंतजार करना होगा। तब जाकर कोई बात बनेगी।

Kedar Jadhav का Indian Cricket Team  तक का सफर कुछ ऐसा ही था। उन्हें 29 साल की उम्र में डेब्यु करने का मौका मिला और तीन सालों बाद 31 साल की उम्र में अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन 15 जनवरी 2017 में England के खिलाफ दे सके।

Kedar Jadhav की इस संघर्षिल सफर में कई लोगों ने मदद किया। आइये जानते है, इस Hindi Biography द्वारा किन लोगों ने उनकी मदद की और उन्होंने कैसे यह सफर तय किया ?

Cricketer Kedar Jadhav Biography In Hindi | Kedar Jadhav की जीवनी

Kedar Jadhav Hindi Biography (wiki)

Kedar-Jadhav-Biography-जीवनी-hindi Cricketer Kedar Jadhav Biography In Hindi | Kedar Jadhav की जीवनी
Cricketer Kedar Jadhav Biography In Hindi | Kedar Jadhav की जीवनी
Parents

Kedar Jadhav का जन्म पुणे के मध्यम वर्गीय परिवार में हुआ था। उनके पिता महादेव जाधव बिजली विभाग से रिटायर्ड कर्मचारी है। उनकी माँ मंदाकिनी जाधव हाउस वाइफ़ है।

इनके अलावा उनके परिवार में तीन बड़ी बहनें है, जिनकी शादी हो चुकी है।

Childhood

Kedar Jadhav बचपन में शांत और अनुशासन प्रवृति के थे, पर वो क्रिकेट के मामले बिलकुल भी अनुशासित नहीं थे। उन्हें बचपन में ही क्रिकेट से इस तरह लगाव हो गया था कि वो सोते समय भी बैट को साथ लेकर सोते थे और गेंदबाजी के लिए जिस वस्तु को गोल पाते, उससे ही गेंदबाजी का अभ्यास करते थे।

इस बारे में उनकी बहन सुचित्रा कहती है,

Kedar Jadhav जब सिर्फ 2 साल का था, तब मैंने से उसे आंवले से गेंदबाजी करते हुए देखी। वह बार-बार हाथ घुमाकर आंवले को एक स्थान पर फेंक रहा था। मैंने उसी दिन कह दी थी कि मेरा भाई बड़ा होकर क्रिकेटर बनेगा।

जबकि उनके पिता कहते है,

Kedar  जब 2 साल का था, तभी से उसने बैट थाम लिया था। वो रातों में भी बैट साथ लेकर सोता था। हमें तो कई बार उससे बैट छीनना पड़ता था।

Education & Cricketing Love

क्रिकेटिंग के साथ उनकी प्रारम्भिक पढ़ाई फेमस MIT High School से हुई। केदार शुरू से ही पढ़ाई में औसत स्टूडेंट थे और Cricketing Love ने उन्हें और कमजोर कर दिया। जिससे उन्हें अपनी माँ और Teacher से लगातार डांट सुनने पड़ते थे।

पर वे पिता के डांट से महरूम रह जाते थे, क्योंकि Kedar Jadhav के पिता बिजली विभाग में काम करते थे, जिससे उन्हें अक्सर काम के सिलसिले में बाहर ही रहना पड़ता था। इसलिए घर की पूरी ज़िम्मेदारी उनकी माँ ही संभालती थी।

जब उनके पिता घर पर आते तो उनकी माँ उनके कम अंकों को लेकर शिकायत करती थी, लेकिन Kedar के पिता हर बार यह कह बात को टाल देते थे कि यह सिर्फ Cricket ही नहीं खेलेगा, बल्कि एक दिन हमारा नाम भी रोशन करेगा।

अब तक Kedar Jadhav की हाई स्कूल की पढ़ाई पूरी हो चुकी थी, इसके बाद वे यशवंत राव मोहिते कॉलेज में बारहवीं तक पढ़ें। इस दौरान वे College Cricket Team का अहम हिस्सा भी रहे।

इसके बाद कोथरुड स्थित सुधाताई माँड़के कॉलेज आ गए, जहां उनके क्रिकेट में बड़ा निखार आया। जिससे उन्हें डिस्ट्रिक्ट लेवल की क्रिकेट में एंट्री मिल गई। जहां वे बेहतरीन खेल का मुजायरा करते हुए स्टेट लेवल के क्रिकेट टीम में जगह पाने में सफल रहे।

अब उनकी B.Com की पढ़ाई पूरी हो चुकी थी। इसलिए वे क्रिकेट के लिए पूरी तरह से फ्री थे। जिस वजह से उन्होंने स्टेट लेवल पर अपनी क्रिकेट की छोटी-छोटी गलतियों में सुधार किया।  जिसका सुखद परिणाम जल्द देखने को मिला, जब उन्हें महाराष्ट्र की रणजी टीम में शामिल कर लिया गया।

Ranji Match Debut

इस तरह उन्होंने फ़र्स्ट क्लास मैचों में डेब्यु 2007 में किया।

पहला साल प्रशिक्षु के रूप में बिता । पर अगले ही साल रणजी सीजन में उन्होंने 6 फिफ़्टी और 1 शतक जमाया, जो उनके कुशल बल्लेबाज होने का संकेत दे गया। इन पारियों को उन्होंने एक Natural T-20 Player की तरह खेला, जिससे उनकी बैटिंग छबि एक आक्रामक बल्लेबाज के रूप में बनी।

IPL Career

इसलिए जल्द ही IPL Team Royal Challengers Banglore से Development Team के लिए खेलने का न्यौता मिला, जहाँ उन्हें पहली बार विदेशी कोच के देख-रेख में विदेशी खिलाड़ियों के साथ अभ्यास मैचों में पसीना बहाने का मौका मिला।

पर जब 2010 में IPL सीजन स्टार्ट हुआ तो उन्हें Delhi Daredevils के द्वारा खरीद लिया गया, जिसके लिए खेलते हुए उन्होंने अपने डेब्यु मैच में ही अपनी पुरानी टीम Royal Challengers Banglore के खिलाफ मात्र 29 बॉलों पर धमाकेदार 50 रन बना डाले।

इस जबर्दस्त परफ़ोर्मेंस ने उन्हें लाईमलाईट में ला दिया और Banglore को भी जता दिया कि उन्होंने उन्हें अपनी टीम में शामिल ना कर बड़ी गलती कर चुके है।

अगले सीजन 2012 में Kochi Tuskers Kerala ने उन्हें खरीद लिया। इस सीजन में वे केवल 6 मैच ही खेल सके, जिसमें उनकी परफ़ोर्मेंस उम्मीद के अनुरूप नहीं रही।

शायद यह समय उनके IPL Career का सबसे बुरा दौर था। 2013 में Delhi Daredevils ने उन्हे खरीद लिया, पर वे अपने परफ़ोर्मेंस पर खरा नहीं उतर सके। इसी तरह 2014 में टीम में नाम मात्र के लिए बने रहे। इस IPL सीजन में 10 मैचों में मात्र 149 रन ही बना सके।

पर रणजी मैचों में इन फ्लॉप शो से दूर वे 2012 में महाराष्ट्र के लिए खेलते हुए उत्तर प्रदेश के खिलाफ 327 की शानदार पारी खेली और 2013-14 रणजी सीजन में छह शतक के साथ 1223 रन बनाए, जो इस सीजन का सबसे अधिक और रणजी इतिहास में चौथा सबसे ज्यादा सीजन स्कोर था। जिसकी बदौलत महाराष्ट्र दस वर्षों बाद रणजी फ़ाइनल खेल सका।

रणजी मैचों में किए गए इस बेहतरीन प्रदर्शन ने उन्हें 2014 में बांग्लादेश के टूर पर जाने वाले Indian Cricket Team में शामिल होने के लिए टिकट दे दिया। पर उन्हें एक भी मैच खेलने का मौका नहीं मिला।

 

 

Kedar Jadhav जीवनी
वास्तविक नाम केदार जाधव महादेव
उपनाम के जाधव
व्यवसाय क्रिकेटर
शारीरिक आँकड़े और अधिक
कद ऊंचाई – सेमी में -163 सेमी
मीटर में – 1.63 मीटर
फिट/इंच में – 5 ‘4 “
वजन (किलोग्राम में) 65 किलो
143 पौंड
शरीर माप कमर : 31 इंच
आर्म्स: 12 इंच
छाती – 39 इंच
आँखों का रंग काला
बालों का रंग काला
क्रिकेट
अंतरराष्ट्रीय कैरियर की शुरुआत वनडे – 16 नवंबर 2014 बनाम श्रीलंका रांची में
टी 20 – 17 जुलाई 2015 बनाम जिम्बाब्वे हरारे में
22 जून 2016 बनाम जिम्बाब्वे
जर्सी संख्या # 18 (भारत)
कोच / मेंटर सुरेंद्र भावे
घरेलू/राज्य की टीम महाराष्ट्र, पश्चिम जोन, मंडल राष्ट्रपतियों इलेवन, दिल्ली डेयरडेविल्स, रॉयल चैलेंजर्स बेंगलूर, कोच्चि टस्कर्स केरल
IPL टीम
पसंदीदा शॉट गेंदबाज के सिर के ऊपर से
बल्लेबाजी की शैली राईट हैण्ड बैट्समैन
गेंदबाजी की शैली राइट-आर्म off break
कैरियर टर्निंग प्वाइंट भारत ने ऑस्ट्रेलिया में एक चतुष्कोणीय श्रृंखला जीता; केदार जाधव एक टूटी कलाई के साथ फाइनल में 73 गेंद में 78 रन बनाए, जिसकी मदद से भारत ‘ए’ को चार विकेट से टूर्नामेंट में जीत हासिल की।
रिकॉर्ड्स (मुख्य) केदार जाधव ने केवल 4 वनडे पारी के बाद पहला एक दिवसीय शतक बनाया था। जाधव से पहले, महेंद्र सिंह धोनी और मनोज प्रभाकर रिकॉर्ड आयोजित किया है, पांच पारियों प्रत्येक ले रही है। उसके लिए दुर्भाग्य से, रिकॉर्ड ऑस्ट्रेलिया, जहां पांडे इस उपलब्धि को हासिल करने के लिए केवल 3 पारी ले ली के खिलाफ एक श्रृंखला में कुछ ही महीने बाद मनीष पांडे से टूट गया था।
व्यक्तिगत जीवन
जन्म तिथि 26 मार्च 1985
उम्र (2017 में) 32 वर्ष
जन्म स्थान पुणे, महाराष्ट्र, भारत
राशि चक्र मेष राशि
राष्ट्रीयता भारतीय
निवास स्थान पुणे, महाराष्ट्र, भारत
स्कूल एम् आई टी हाई स्कूल पुणे
कॉलेज यशवंत राव मोहिते कॉलेज पुणे
शैक्षिक योग्यता सुधाताई माँड़के कॉलेज, कोथरुड, महाराष्ट्र B Com
परिवार पिता – महादेव जाधव
माँ – मंदाकिनी जाधव भाई – अज्ञात
बहन – स्मिता
धर्म हिंदू धर्म
पता पुणे, महाराष्ट्र, भारत
पसंद-नापसंद
शौक फिल्मे देखना
पसंदीदा चीजें
पसंदीदा खिलाड़ी सचिन तेंडुलकर
पसंदीदा अभिनेता सलमान खान
पसंदीदा अभिनेत्री दीपिका पादुकोण
वैवाहिक स्थिति वैवाहिक
Affairs/Girlfriends अज्ञात
पत्नी स्नेहल जाधव
बच्चे बेटी – 1 (जन्म 2015)
पुत्र – N / A
  • केदार जाधव धूम्रपान करते है: नहीं
  • केदार जाधव शराब पीते है: ज्ञात नहीं
  • केदार जाधव ने वर्ष 2010 में दिल्ली डेयरडेविल्स के साथ अपनी आईपीएल यात्रा शुरू की उन्होंने रॉयल चैलेंजर्स बेंगलूर के खिलाफ अपने पदार्पण मैच में मैच 29 गेंद में 50 रन बनाकर विजय के साथ अपना लोहा मनवाया।
  • केदार जाधव घरेलू क्रिकेट में महाराष्ट्र के लिए खेलते है। 2012 में उन्होंने 327 रन बनाकर अपन पहला तिहरा शतक बनाया है जो की रणजी ट्राफी में महाराष्ट्र के किसी बल्लेबाज का दूसरा सबसे बड़ा स्कोर है।
  • केदार यादव ने 2013-14 में रणजी ट्रॉफी सीजन में कुल 1223 रन बनाए हैं जिसमें छह शतक भी शामिल है। इस सीजन के वे सबसे ज्यादा रन बनाने वाले खिलाड़ी थे और टूर्नामेंट के इतिहास में चौथे सबसे बड़े खिलाडी है। इस उपलब्धि के लिए, वह माधवराव सिंधिया पुरस्कार से सम्मानित किया गया।
  • केदार जाधव को जून 2014 में बांग्लादेश दौरे के लिए भारतीय टीम में चुना गया था, लेकिन वह किसी कारणबस नहीं खेल सके और इस तरह श्रीलंका के खिलाफ एक श्रृंखला में कुछ ही महीने बाद उसकी आधिकारिक शुरुआत की, जिसमे भारत ने श्रीलंका पर 5-0 विजय प्राप्त करके इतिहास रचा।
  • केदार जाधव का जन्म पुणे के मध्यम वर्गीय परिवार में हुआ था। Kedar Jadhav के पिता महादेव जाधव बिजली विभाग से रिटायर्ड कर्मचारी है। उनकी माँ मंदाकिनी जाधव हाउस वाइफ़ है।
  • केदार जाधव बचपन अनुशासन प्रवृति के हैं , पर वो क्रिकेट के मामले बिलकुल भी अनुशासित नहीं थे। उन्हें बचपन से ही क्रिकेट से इस तरह लगाव हो गया था कि वो सोते समय बैट को साथ लेकर सोते थे और गेंदबाजी के लिए जिस वस्तु को गोल पाते उससे ही गेंदबाजी का अभ्यास करते थे।
  • इस बारे में उनकी बहन सुचित्रा कहती है, “जब केदार सिर्फ 2 वर्ष का था , तब मैंने से उसे आंवले से गेंदबाजी करते हुए देखा था वह बार-बार हाथ घुमाकर आंवले को एक स्थान पर फेंक रहा था। मैंने उसी दिन कह दी थी कि मेरा भाई बड़ा होकर क्रिकेटर बनेगा”।
  • केदार यादव शुरू से ही पढ़ाई में औसत स्टूडेंट थे और क्रिकेट प्रेम ने उन्हें और कमजोर कर दिया, जिससे उन्हें अपनी माँ और शिक्षक से लगातार डांट सुनने पड़ते थे। लेकिन वे पिता के डांट से बच जाते थे, क्योंकि उनके पिता बिजली विभाग में काम करते थे जिससे उन्हें अक्सर काम के सिलसिले में बाहर ही रहना पड़ता था। इसलिए घर की पूरी ज़िम्मेदारी उनकी माँ ही संभालती थी।
  • जब उनके पिता घर पर आते तो उनकी माँ उनके कम अंकों को लेकर शिकायत करती थी, लेकिन उनके पिता हर बार यह कह बात को टाल देते थे कि यह सिर्फ क्रिकेट ही नहीं खेलेगा, बल्कि एक दिन हमारा नाम भी रोशन करेगा।
  • केदार जाधव आगे की पढ़ाई के लिए कोथरुड स्थित सुधाताई माँड़के कॉलेज आ गए, जहां उनके क्रिकेट में बड़ा निखार आया, जिससे उन्हें डिस्ट्रिक्ट लेवल की क्रिकेट में एंट्री मिल गई। जहां वे बेहतरीन खेल का प्रदर्शन करते हुए स्टेट लेवल क्रिकेट टीम में जगह बनाने में सफल रहे।
  • केदार जाधव का टेस्ट मैचों में शानदार प्रदर्शन के बाद एक फिर उन्हें 2017 को में इंग्लैंड के खिलाफ उन्हें वन डे टीम में शामिल कर लिया गया।
  • केदार जाधव ने पहले मैच में ही कप्तान विराट कोहली के साथ 200 रन शानदार पार्टनरशिप किया और मात्र 76 बॉलों पर तेज 120 रन भी बनाये। जिससे भारत की जीत हुई।

Did you like this post on “Cricketer Kedar Jadhav Biography In Hindi | Kedar Jadhav की जीवनी” Please share your comments.

Like US on Facebook

         

यदि आपके पास Hindi में कोई article,motivational story, business idea,Shayari,anmol vachan,hindi biography या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें. हमारी Id है:achhiduniya3@gmail.com.पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ PUBLISH करेंगे.

Read Also Hindi Biorgaphy Collection
Read Also Hindi Quotes collection
Read Also Hindi Shayaris Collection
Read Also Hindi Stories Collection
Read Also Whatsapp Status Collection In Hindi 

Thanks!

Read  Hindi Biorgaphy (जीवनी) Collection  of महापुरुषों की जीवनी ,famous singers,famous personalities of india,famous celebrities and Sports persons.

 

 

Check Also

download-231x165 Natasha Dalal Biography in Hindi | नताशा दलाल जीवन परिचय

Natasha Dalal Biography in Hindi | नताशा दलाल जीवन परिचय

Natasha Dalal Biography in Hindi | नताशा दलाल जीवन परिचय जीवन परिचय वास्तविक नाम नताशा …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close