Home / Biography / मनीष पांडे की जीवनी | Manish Pandey Biography In Hindi

मनीष पांडे की जीवनी | Manish Pandey Biography In Hindi

 

manish-pandey मनीष पांडे की जीवनी | Manish Pandey Biography In Hindi
मनीष पांडे की जीवनी | Manish Pandey Biography In Hindi

फ्रेंड, आज मैं बात करने जा रहा हूँ एक ऐसे जुझारू और संघर्षिल Indian Cricket Player की, जिसने IPL में भारतीय खिलाड़ी के रूप में पहला शतक ठोक, खुद को भविष्य का सलामी बल्लेबाज के रूप में दुनियाँ से परिचित कराया। मैं बात कर रहा हूँ, हरियाली की आंचल में जन्में Manish Pandey की। जिन्हें अक्सर उनके बैटिंग के लिए चुलबुल पांडे भी कहा जाता है। अब आप इस Hindi Biography द्वारा Manish Pandey की life स्टोरी को जानेंगे…

मनीष पांडे की जीवनी | Manish Pandey Biography In Hindi Childhood & Parents

मनीष पांडे का जन्म नैनीताल nanital, उत्तराखंड के मिडल क्लास फैमिली में हुआ था। उनके पिता कृष्णनन्द पांडे इण्डियन आर्मी indian army  में सेवारत थे और उनकी माँ एक हाउस वाइफ़ थी।

पिता का army में होने के कारण उनकी स्कूल शिक्षा केन्द्रीय विद्यालय से हुई।

जब वे थर्ड स्टेंडर्ड में थे, तब से ही उनकी रुचि क्रिकेट में जाग चुकी थी। स्कूल, गली, मौहल्ला, जहां भी उन्हें क्रिकेट खेलना का चांस मिलता वे पूरे जुनून से खेलते।

इसकारण वे जल्द ही नेशनल और उस स्कूल के कोच सतीश, जिन्होंने कर्नाटक, हरियाणा और ओरीशा के टीमों को कोचिंग दे चुके थे, के नजरों में आ गए।

कोच सतीश ने उनमें खेलने की जुनून और रनों की भूख देखी, जिससे प्रभावित होकर उन्होंने उन्हें कोचिंग देने का फैसला किया। वे जल्द ही छोटी से उम्र में अपने जुनूनी खेल, क्रिकेट के छोटे से छोटे और बड़े से बड़े गुर सीखने लगे।

इस दौरान वे इंटर स्कूल और क्लब मैच खेलकर सीखे स्किल की टेस्ट किया करते थे।  जिस कारण धीरे-धीरे उनकी स्पोर्टिंग स्किल से कमियाँ दूर होती गई और वे एक हाई लेवल के खिलाड़ी बनते चले गए।

खासतौर पर उनकी बैटिंग स्किल में ज्यादा सुधार हुआ, जिसकारण आज वे अपनी बैटिंग के लिए ज्यादा जाने जाते हैं।

चूंकि Manish Pandey के कोच सतीश एक नेशनल कोच थे और उस वक्त कर्नाटक की क्रिकेट टीम को कोचिंग भी दे रहे थे। वे पहले ही अपने चेले के क्वालिटी पर्फ़ोमेंस से प्रभावित थे। उन्होंने जल्द ही मनीष को कर्नाटक टीम का हिस्सा बना दिया।

Read Also : कैसे बना टीम इंडिया का स्टार, जिसकी हैसियत नया बैट खरीदने तक नहीं थी

T-20 Debut

इस तरह मनीष कर्नाटक के लिए खेलते हुए केरल के विरुद्ध 2007 में नेशनल टी-20 मैचों में डेब्यु किया। पर उनका यह डेब्यु शानदार नहीं रहा। शायद वे अपने नब्ज पर कंट्रोल नहीं रख सके और मात्र 5 रन बनाकर रन आउट हो गए।

List A Debut

पर वे कर्नाटक की टीम में बने रहे, जिस दौरान उन्होंने 2008 में सौराष्ट्र के विरुद्ध लिस्ट ए और रेलवे के विरुद्ध फ़र्स्ट क्लास मैचों में डेब्यु किया। उनके दोनों ही डेब्यु शानदार रहे।

International Debut

अंतत: वे अपने वर्तमान उम्दा परफ़ोर्मेंस के कारण जल्द ही बीसीसीआई के नजर में आ गए। उन्हें जल्द ही इसका बड़ा इनाम मिला, जब उनका सलेक्शन अंडर-19 वर्ल्ड कप के लिए इंडियन क्रिकेट टीम में कर लिया गया।

मोटे से मोटे का भी पेट १५-२० दिन में कम हो जाता है! इसे एक ग्लास पानी में मिलाएंत्वचा गोरी करने का एक बढ़िया रामबाण नुस्खा। इसे लिख लें और आज़माएँ।खाली पेट दो चम्मच खाने से वज़न घटता है| १० दीनो मे १८ किलो वज़न घटा! क्लिक करेएक हफ्ते में तोंद गायब! बस सोने के पहले लें…

उस वर्ल्ड कप की फेवरिट टीम भारत ने चैंपियन जैसा खेला और वर्ल्ड कप अपने नाम करने में कामयाब रहा। इस महाजीत ने कई खिलाड़ियों को लाईम लाइट में लाकर उनकी किस्मत को चमका दिया। जिस कारण, इनमें से कई खिलाड़ियों को आईपीएल में खेलने का सुनहरा मौका मिला।

IPL Career

ऐसा ही मौका Manish Pandey को मिला। जिसे वे भुनाते हुए आईपीएल में रॉयल चेलेंजर बैंगलोर की ओर से खेलते हुए पहला शतक ठोक, आईपीएल में पहला भारतीय शतकवीर होने का गौरव पाया, जिसे कभी भुलाया नहीं जा सकता।

अब तक आईपीएल में खेलने के बाद वे अपनी अव्वल दर्जे की बैटिंग स्किल से आक्रामक और ओपनर बेट्समेन के रूप में अपनी पहचान बना चुके है।

वैसे Manish Pandey आईपीएल टीम मुंबई इंडियंस के लिए भी खेल चुके है, वर्तमान वे कोलकाता नाईट राइडर्स के हिस्सा है।

International ODI & T-20 Debut

14 जुलाई 2015 में मनीष को ज़िम्बाबे के विरुद्ध ओडीआई मैचों में मौका दिया गया। जहां उन्होंने केदार जाधव के साथ 144 रन की पार्टनरशिप कर एक यादगार डेब्यु किया।

पर उस समय इतनी बड़ी पार्टनरशिप करना आसान नहीं था, फास्ट बॉलरों को मदद दे रही पिच पर भारत के 4 खिलाड़ी मात्र 82 रन पर आउट हो चुके थे।

ऐसे में आने वाले खिलाड़ी को पूरी संयम के साथ विकेट पर रुक कर खेलना था, और साथ ही रन भी लगातार बनाते रहना जरूरी था। इस तरह बेहद ही प्रेशर सिचुएशन और भारत की नाजुक स्थिति को संभालते हुए 144 रन की पार्टनरशिप कर भारत के स्कोर को सम्मानजनक स्कोर तक पहुंचाया।

Read Also : कैसे बना टीम इंडिया का स्टार, जिसकी हैसियत नया बैट खरीदने तक नहीं थी

इस तरह उन्होंने इस तरह के सिचुएशन को हैंडल कर यह जत्ता दिया की, वे एक संघर्षिल और आशान्वित खिलाड़ी है।  इसी टूर पर उन्होंने जिम्बाबे के खिलाफ टी 20 में भी डेब्यु किया।

जनवरी 2016 में ऑस्ट्रेलिया के टूर पर उन्हें ओडीआई मैचों के लिए इंडियन क्रिकेट टीम में जगह दी गई।

जब भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच सीरीज स्टार्ट हुआ तो सबके उम्मीदों के उलट भारत को उस सीरीज में लगातार चार मैचों में हार मिली और भारत अंतिम मैच भी हार की कगार पर खड़ा था, पर मनीष ने अपने कौशल और बुद्धिमता से 104 रन बनाकर हार रही भारत को इस सीरीज में पहली जीत दिला दिया।

जिसके बदौलत वे जून 2016 में भारत बनाम ज़िम्बाबे की ओडीआई मैचों की सीरीज में अपना स्थान पक्का करने में कामयाब रहे।

Quick Fact

Date of Birth – Sept 10, 1989

Age – 26 Years (2016)

Birth Place – Nainital

Playing Role – Batsman

Batting Style – Right Hand Bat

Bowling Style – Right Arm Medium

Nicke Name – Pandu, Chulbul Pandey

Father – Krishanand Pandey

Mother – NA

Girlfriend – NA

Check Also

download-231x165 Natasha Dalal Biography in Hindi | नताशा दलाल जीवन परिचय

Natasha Dalal Biography in Hindi | नताशा दलाल जीवन परिचय

Natasha Dalal Biography in Hindi | नताशा दलाल जीवन परिचय जीवन परिचय वास्तविक नाम नताशा …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close