Pele biography – पेले की जीवनी

पेले – Footballer Pele

पूरा नाम  – एडिसन “एडसन” अरांटिस डो नैसिमेंटो
जन्म       – 23 अक्टूबर, 1940.
जन्मस्थान  – ट्रेस कोराकोस
पिता       –  जो रैमोस डो नैसिमैंटो
माता       –  सेलेस्टे अरांटिस
विवाह     –  रोजमेरी डोस के साथ.

Pele biography – पेले की जीवनी पेले - Pele biography - Pele biography – पेले की जीवनी
Pele Famous Peoples Biography In Hindi, प्रसिद्ध लोगों की जीवनी – पेले की जीवनी

Pele Famous Peoples Biography In Hindi, प्रसिद्ध लोगों की जीवनी – पेले की जीवनी

कार्य       –

1959 में उन्होंने ‘सांतोस’ (Santos) क्लब की ओर से पहला मैच खेला और पहला गोल भी किया और फिर सफलताओं के शिखर की ओर बढ़ते गए | मात्र 16 वर्ष  की आयु में पेले (Pele) अपने देश की राष्ट्रीय टीम के सदस्य बने  और शीघ्र  ही सफलाताओं के शिखर पर पहुंच गये |

1969 में उन्होंने अपना 1000 वां  गोल किया, जब वे अपना 909वां प्रथम श्रेणी मैच खेल रहे थे | पेले के नेतृत्व में ब्राजील ने फुटबाल में कई उल्लेखनीय सफतायें प्राप्त कीं | उन्होंने अपने  संपूर्ण जीवन में 1363 मैच खेले और 1281 गोल किये |

पेले विश्व के सबसे चहेते खिलाड़ी माने जाते हैं | ‘काले हीरे’  के नाम से विख्यात पेले ने इंटली  और अल्जीरिया व्दारा दी जा रही भारी प्रलोभन राशि को ठुकरा कर देशप्रेम का उत्तम उदाहरण प्रस्तुत किया है | उनके सम्मान में डाक टिकट भी छापे गये और 1970 की विश्व कप प्रतियोगिता में उन्हें स्वर्णपदक से सम्मानित किया गया |

मार्शल टिटो ने भी उन्हें सम्मानित किया था | 18 जुलाई, 1971 को मारकाना  स्टेडियम में 2  लाख लोगों की उपस्थिति में युगोस्लाविया के विरुद्ध खेलते हुये पेले  ने खेल जगत से संन्यास ले लिया |

पेले ने फुटबाल से संन्यास लेकर अपना ध्यान फिल्मों एवं व्यवसाय की ओर लगा दिया | फिर भी पेले का नाम फुटबाल के साथ सदा जुड़ा रहेगा | उन्होंने जिस अव्दितीय खेलकौशल का प्रदर्शन किया, वह सदैव ‘फुटबाल’ खेल का ही पर्याय बना रहेगा |

पेले (Pele) का नाम फुटबाल के साथ सदा के लिए जुड़ गया है | आज खेल जगत से संन्यास लेने के बाद भी वे ‘फुटबाल के बादशाह’ माने जाते हैं |

प्रारंभिक वर्ष

पेले का जन्म ट्रेस कोराकोस, ब्राजील में एक फ्लुमिनेंस फुटबॉल खिलाड़ी डोन्डीन्हो (जन्म नाम जो रैमोस डो नैसिमैंटो) और डोना सेलेस्टी अरांटिस के पुत्र के रूप में हुआ। उनका नाम अमरीकी अन्वेषक थामस एडीसन के नाम पर एडीसन रखा गयालेकिन उनके माता-पिता ने नाम में से अंग्रेजी अक्षर ‘i’ को निकाल कर ‘एडसन’ ऱखने का निश्चय किया, लेकिन उसके जन्म के प्रमाणपत्र में एक त्रुटि रह गई जिससे कई कागजातों में उनका नाम एडसन न होकर एडीसन ही रहा. उसके परिवार ने मूल रूप से उन्हें उपनाम डिको दिया था। उनका उपनाम ‘पेले’ उन्हें स्कूल के दिनों में प्राप्त हुआ, जो यह दावा किया जाता है कि उन्हें उनके पसंदीदा खिलाड़ी, स्थानीय वास्को दा गामा के गोलकीपर बिले के नाम का गलत उच्चारण करने के कारण दिया गया था – लेकिन जितना वे मना करते थे यह नाम उतना ही उनसे जुड़ता गया। अपनी आत्मकथा में, पेले ने कहा है कि उन्हें और न ही उनके मित्रों को पता था कि इस नाम का क्या अर्थ था। इस दावे के सिवाय कि यह नाम बिले से उत्पन्न हुआ है और यह चमत्कार के लिये हिब्रू शब्द है, पुर्तगाली भाषा में इस शब्द का कोई ज्ञात अर्थ नहीं है।

पेले बोरू, साओ पॉलो में गरीबी में पले-बढ़े. उन्होंने चाय की दुकानों में नौकरी करके अतिरिक्त पैसा कमाया. उनके कोच द्वारा खेलना सिखाए जाने के समय वे एक अच्छा फुटबॉल खरीदने का खर्च वहन नहीं कर सकते थे और सामान्यतः मोजे में अखबार को ठूंसकर, उसे रस्सी या ग्रेपफ्रूट से बांध कर उससे खेला करते थे।

पन्द्रह वर्ष की उम्र में उन्होंने सांटोस एफसी जूनियर टीम में दाखिला पाया। सीनियर टीम में जाने के पहले उन्होंने एक सीजन के लिये खेला।

क्लब का करियर

सांटोस

पेले - 220px Huellas de Pel C3 A9 - Pele biography – पेले की जीवनी

मरकाना स्टेडियम के अंदर वह निशान जो पेले ने छोड़ा

1956 में, डी ब्रिटो पेले को सांटोस, जो साओ पॉलो प्रदेश में एक औद्योगिक और बंदरगाह शहर था, में पेशेवर क्लब सांटोस फुटबॉल क्लब में दाखिल करने ले गया जहां उसने निदेशकों को बताया कि 15 वर्ष का पेले “विश्व का सबसे महान फुटबॉल खिलाड़ी” बनेगा.

सांटोस में रहने के समय पेले ज़िटो, पेपे और कौटिन्हो सहित अनेकों मेधावी खिलाड़ियों के साथ खेले; कौटिन्हो ने अनगिनत आमने-सामने के खेलों, आक्रमणों और गोलों में उनके साथ भागीदारी की.

पेले ने सांटोस के लिये अपने पेशे की शुरूआत 7 सितम्बर 1956 को कोरिंथियन्स पर एक सद्भावना मैच में 7-1 से विजय में एक गोल बनाकर की.1957 का सीजन शुरू होने पर पेले को पहली टीम में शुरूआती स्थान दिया गया और सिर्फ 16 की आयु में वे लीग के सबसे अधिक गोल बनाने वाले खिलाड़ी बन गए। पेशेवर रूप से हस्ताक्षर करने के केवल दस महीनों बाद ही उस तरूण को ब्राजील की राष्ट्रीय टीम में ले लिया गया। 1962 में विश्व कप के बाद, रियल मैड्रिड, जुवेंटस और मैंचेस्टर युनाइटेड जैसे अमीर यूरोपियन क्लबों ने उस युवा खिलाड़ी को अपनी टीमों में समाविष्ट करने का प्रयत्न किया लेकिन ब्राजील की सरकार ने पेले को देश के बाहर स्थानांतरित होने से रोकने के लिये उन्हें “अधिकारिक राष्ट्रीय संपदा” घोषित कर दिया.

पेले ने सांटोस के साथ अपना पहला खिताब 1958 में उनकी टीम की कैम्पियोनाटा पालिस्टा की जीत के साथ हासिल किया- उस टूर्नामेंट में पेले ने अविश्वसनीय 58 गोल बनाकर शीर्ष गोलकर्ता का स्थान लिया, जो आज भी एक रिकार्ड है। एक वर्ष बाद, ओ रे ने अपनी टीम को टोर्नियो रियो-साओ पालो में वास्को दा गामा पर 3-0 से अपनी पहली विजय दिलाई. फिर भी सांटोस पालिस्टा के खिताब को दूसरी बार अपने पास रखने में असमर्थ रहा. 1960 में, पेले ने 33 गोल बना कर अपनी टीम को कैम्पियोनाटो पालिस्टा ट्राफी वापस पाने में मदद की लेकिन उन्हें रियो-साओ पालो टूर्नामेंट में निराशाजनक 8वां स्थान प्राप्त करके हार का सामना करना पड़ा और 47 गोल बना कर पेले ने सांटोस को कैम्पियोनाटो पालिस्टा का खिताब अपने पास रखने में सहायता की. उसके क्लब ने बाहिया को फाइनल में हरा कर उसी वर्ष टाका ब्रासिल भी जीत लिया; पेले ने उस टूर्नामेंट में सबसे ज्यादा 9 गोल बनाए. उस विजय के बाद सांटोस को पश्चिमी गोलार्ध के सबसे सम्मानित क्लब टूर्नामेंट, कोपा लिबेर्टाडोरेस में खेलने का मौका मिल गया।

सांटोस का सर्वाधिक सफल क्लब सीजन 1962 में शुरू हुआ; टीम को सेरो पोर्टीनो और डीपोर्टीवो म्युनिसिपल के साथ समूह 1 में वरीयता मिली और पेले के सेरो के विरूद्ध अपना पहला गोल करने के साथ उन्होंने एक (सेरो के विरूद्ध 1-1 अनिर्णीत) को छोड़ कर अपने समूह के सभी मैच जीत लिये. सांटोस ने युनिवर्सिडाड कैटोलिका को सेमीफाइनल में हराया और फाइनल में पिछली बार के विजयी चैम्पियन पेनाराल का मुकाबला किया जिसमें पेले ने निर्णायक मैच में गोलों का एक और जोड़ा बनाकर ब्राजीली क्लब को अपना पहला खिताब दिलवाया. पेले ने उस स्पर्धा में 4 गोल करके दूसरे सर्वोत्तम गोलकर्ता का स्थान पाया। उसी वर्ष सांटोस ने सफलतापूर्वक कैम्पियोनाटो ब्राजिलियेरो (पेले के 37 गोलों सहित) और टाका ब्रासिल (पेले ने बोटाफोगो के विरूद्ध फाइनल श्रंखला में 4 गोल बनाए) के अपने खिताबों की रक्षा की और 1962 का इंटरकांटिनेंटल कप (पेले ने इस श्रंखला में पांच गोल किये) जीत लिया।

पिछली बार के चैम्पियन के रूप में, सांटोस ने 1963 के कोपा लिबेर्टाडोरेस के सेमीफाइनल में स्वतः प्रवेश पा लिया। बोटाफोगो और बोका जूनियर्स पर प्रभावशाली विजयों के बाद बैले ब्लांको ने शानदार तरीके से अपने खिताब को बनाए रखने में कामयाबी हासिल की. पेले ने गैरिंचा और जिरिंज्हो जैसे प्रख्यात खिलाड़ियों से युक्त बोटाफोगो टीम को सेमीफाइनलों के पहले चरण में काबू में लाने के लिये कष्टपूर्ण अंतिम मिनट में गोल करके सांटोस की सहायता की. दूसरे चरण में सांटोस द्वारा बोटाफोगो को 0-4 से हराने के साथ पेले ने एस्ट्राडियो डो मैरैकाना में लगातार तीन गोल करके फुटबॉल खिलाड़ी के रूप में अपने सर्वोत्तम प्रदर्शनों में से एक प्रस्तुत किया। अपने दूसरे लगातार फाइनल में सांटोस ने श्रंखला का प्रारंभ पहले चरण में 3-2 से विजय से किया और जोसे सैनफिलिपो और एंटोनियो रैटिन के पोका जूनियर्स को ला बाम्बोनीरा में 1-2 से हराया जिसमें पेले ने एक और गोल किया, जिससे वह अर्जेंटाइनी जमीन पर कोपा लिबेर्टाडोरेस जीतने वाली पहली (और अब तक अकेली) टीम बन गई। पेले ने 5 गोल करके टूर्नामेंट को दूसरे सबसे बेहतरीन गोलकर्ता के रूप में समाप्त किया। सांटोस तीसरे स्थान पर रह कर कैम्पियोनाटो पालिस्टा में पराजित हुआ लेकिन उसने फाइनल मैच में प्रभावशाली 0-3 से फ्लेमिंगो पर विजय के साथ रियो-साओ पालो टूर्नामेंट जीत लिया जिसमें पेले ने एक गोल का योगदान किया। पेले ने सांटोस को इंटरकांटिनेंटल कप और टाका ब्रासिल खिताब की रक्षा करने में भी मदद की.

सांटोस ने 1964 में फिर से अपने खिताब की रक्षा करने का प्रयत्न किया लेकिन वे सेमीफाइनलों के दोनो चरणों में इंडिपेंडियेंट से बुरी तरह हार गए। सांटोस ने कैंम्पियोनाटो पालिस्टा का खिताब फिर से जीता जिसमें पेले ने 34 गोल बनाए. क्लब ने बोटाफोगो के साथ रियो-साओ पालो खिताब की साझेदारी भी की और टाका ब्रासिल लगातार चौथे वर्ष भी जीत लिया। सैंटिस्टास ने 1965 में कैम्पियोनाटा पालिस्टा और टाका ब्रासिल नौवीं बार जीत कर फिर से ऊपर आने की कोशिश की. 1965 के कोपा लिबेर्टाडोरेस में, सांटोस ने पहले दौर में अपने समूह के हर मैच को जीत कर अच्छी शुरूआत की. सेमीफाइनलों में, सांटोस का मुकाबला 1962 के फाइनल के एक दोबारा खेले गए मैच में पेनाराल से हुआ। दो प्रख्यात मैचों के बाद, बराबरी (टाई) को तोड़ने के लिये एक निर्णायक गोल (प्लेआफ) की जरूरत थी। 1962 के विपरीत, पेनाराल ने बढिया खेलकर सांटोस को 2-1 से बाहर कर दिया. फिर भी पेले ने टूर्नामेंट में सबसे अधिक गोल बनाने वाले का स्थान पाया। सांटोस ने टोर्नियो रियो-साओ पालो के खिताब को बचा सकने में विफलता के साथ, शर्मनाक 9 वां स्थान (अंतिम से दूसरा) हासिल किया जो उसके ह्रास की शुरूआत का एक प्रमाण था।

1966 में, पेले और सांटोस टाका ब्रासिल की रक्षा करने में भी असफल रहे, क्यौंकि ओ रेस के गोल फाइनल श्रंखला में क्रुज़ीरो से 9-4 से हार से बचने के लिये काफी नहीं थे। हालांकि सांटोस ने 1967, 1968 और 1969 में कैम्पियोनाटो पालिस्टा जीता, पेले का योगदान सैंटिस्टास की अब सीमित रह गई सफलता में दिनोदिन कम होने लगा .19 नवम्बर 1969 को पेले ने सभी स्पर्धाओं में अपना 1000 वां गोल बनाया. ब्राज़ील के लिये यह बहुत प्रत्याशित क्षण था। यह गोल, जिसे लोकप्रिय रूप से ओ माइलेसिमो (हजारवां) कहा जाता है, वास्को दा गामा के विरूद्ध एक मैच में किया गया, जब पेले ने मैराकाना स्टेडियम में पेनल्टी किक से स्कोर किया।

पेले का कहना है कि उनका सबसे सुंदर गोल 2 अगस्त 1959 को रुआ जावारी स्टेडियम में साओ पालो के प्रतिद्वंदी जुवेंटस के खिलाफ एक कैम्पियोनाटो पालिस्टा मैच में हुआ था। चूंकि उस मैच का कोई विडियो रिकार्ड उपलब्ध नहीं है, पेले ने उस गोल का एक कम्प्यूटर अनुप्राणन बनाने को कहा. मार्च 1961 में पेले ने गोल डी प्लाका (फलक बनाने योग्य गोल) बनाया, जो उन्होंने मैराकाना में फ्लुमिनेंस के विरूद्ध किया, जिसे इतना दर्शनीय माना गया कि मैराकाना के इतिहास में सबसे सुंदर गोल को समर्पित करते हुए एक फलक का निर्माण शुरू करवाया गया .

पेले के उत्तेजक खेल और दर्शनीय गोल बनाने की ओर झुकाव ने उन्हें सारे विश्व में एक सितारा बना दिया.उनकी लोकप्रियता का पूरा लाभ उठाने के लिये उनकी टीम सांटोस ने कई अंतर्राष्ट्रीय दौरे किये. 1967 में नाइजीरियन गृहयुद्ध में लगे दो गुट 48 घंटों के लिये युद्धविराम करने के लिये सहमत हो गए ताकि वे पेले को लागोस में एक प्रदर्शन मैच में खेलते देख सकें.

न्यूयॉर्क कॉस्मॉस

1972 सीजन के बाद (सांटोस के साथ उनका 17वां), पेले ने ब्राज़ीली क्लब फुटबॉल से अवकाश ले लिया, हालांकि वे आधिकारिक स्पर्धीय मैचों में यदा-कदा सांटोस के लिये खेलते रहे. दो वर्षों के बाद, वे अपने अर्धावकाश से उत्तर अमरीकी सॉकर लीग के न्यूयॉर्क कॉस्मॉस के लिये हस्ताक्षर करने के लिये निकले. हालांकि अब तक वह अपनी युवावस्था से काफी आगे निकल चुके थे, संयुक्त राज्य में फुटबॉल की महत्त्वपूर्ण रूप से बढ़ती सार्वजनिक जागरूकता और रूचि का श्रेय पेले को जाता है। उन्होंने क्लब के साथ अपने तीसरे और अंतिम सीजन में 1977 एनएएसएल (NASL) चैम्पियनशिप के लिये कॉस्मॉस का नेतृत्व किया।

1 अक्टूबर 1977 को पेले ने अपने प्रख्यात करियर की समाप्ति कॉस्मॉस और सांटोस के बीच एक प्रदर्शन मैच में की. सांटोस सीटल साउंडर्स को 2-0 से हराने के बाद न्यूयार्क और न्यू जर्सी पहुंचे। यह मैच भीड़ से खचाखच भरे जायंट्स स्टेडियम में खेला गया और संयुक्त राज्य में एबीसी के वाइड वर्ल्ड ऑफ स्पोर्ट्स पर और सारे संसार में टेलिविजन पर दिखाया गया। पेले के पिता और पत्नी दोनो इस मैच में शामिल हुए. पेले ने मैच के पहले एक संक्षिप्त वक्तव्य दिया जिसमें उन्होंने भीड़ से अंग्रेजी का “लव” शब्द उसके साथ तीन बार कहने के लिये कहा. उन्होंने मैच का पहला आधा भाग कॉस्मॉस के लिये और दूसरा आधा भाग सांटोस के लिये खेला। रेनाल्डो ने गेंद के क्रासबार से विचलित होने के बाद किक मार कर नेट में पहुंचाकर सांटोस के लिये पहला गोल किया। फिर पेले ने एक सीधी ‘फ्री किक’ द्वारा अपना अंतिम गोल किया, जिसमें उन्होंने गेंद को कूद कर सामने आते सांटोस के गोलकीपर के पार पहुंचा दिया. आधे समय पर कॉस्मॉस ने पेले के नंबर 10 को अवकाश दे दिया. पेले ने अपनी कॉस्मॉस की कमीज अपने पिता को प्रदान कर दी, जिन्हें कॉस्मॉस के कप्तान वर्नर रॉथ अपने साथ मैदान में लेकर आए. दूसरे भाग में कॉस्मॉस के स्ट्राइकर रेमन मिफ्लिन, जिन्होंने पेले द्वारा टीम बदलने पर उनका स्थान लिया था, ने क्रास से विचलित हुई गेंद से गोल बनाया और कॉस्मॉस वह मैच 2-1 से जीत गया। मैच के बाद, पेले को कॉस्मॉस के खिलाड़ियों द्वारा गले लगा लिया गया, जिनमें उनके लंबे अर्से के प्रतिद्वंदी जियार्जियो चिनाग्लिया भी शामिल थे-फिर उन्होंने अपने बांए हाथ में अमरीकी ध्वज और दांए हाथ में ब्राज़ीली ध्वज लेकर मैदान का चक्कर लगाया. पेले को तुरंत कॉस्मॉस के कई खिलाड़ियों द्वारा उठा कर मैदान का चारों ओर ले जाया गया।

राष्ट्रीय टीम में करियर

पेले - 220px Bra par1959ca - Pele biography – पेले की जीवनी

पेले (झुके हुए, दांयी तरफ से दूसरे) और ब्राज़ील की राष्ट्रीय टीम 1959 कोपा अमेरिका में.

पेले का पहला अंतर्राष्ट्रीय मैच अर्जेंटाइना के विरूद्ध 7 जुलाई 1957 में खेला गया था जो वे 2-1 से हार गए थे। उस मैच में पेले ने ब्राज़ील के लिये अपना पहला गोल किया था जब वे 16 वर्ष और 9 महीने की उम्र में अंतर्राष्ट्रीय फुटबॉल में गोल करने वाले सबसे छोटी उम्र के खिलाड़ी बने.

1958 विश्व कप[

पेले - Gilmar - Pele biography – पेले की जीवनी

ब्राज़ील के 1958 कप को जीतने के बाद शांत गिल्मार के कंधे पर रोते हुए पेले.

विश्व कप में उनका पहला मैच 1958 फीफा विश्व कप के पहले दौर में यूएसएसआर (USSR) के विरूद्ध था, जो गैरिंचा, ज़िटो और वावा के साथ खेला गया कप का तीसरा खेल था।वे उस टूर्नामेंट के सबसे छोटी उम्र के खिलाडी थे और उस समय विश्व कप में खेलने वाले खिलाड़ियों में तब तक के सबसे कम आयु के खिलाड़ी थे। उन्होंने वेल्स के विरूद्ध क्वार्टरफाइनल में अपना पहला विश्व कप गोल किया, जो उस मैच का एकमात्र गोल था, जिसकी सहायता से ब्राज़ील सेमीफाइनल में पहुंच सका और जिससे 17 वर्ष और 239 दिनों की आयु में वे विश्व कप में गोल करने वाले सबसे छोटी वय के खिलाड़ी बने. सेमीफाइनल में फ्रांस के विरूद्ध, ब्राज़ील आधे समय पर 2-1 से आगे था और तभी पेले ने लगातार तीन गोल (हैट-ट्रिक) बनाए और विश्व कप के इतिहास में ऐसा करने वाले वे सबसे कम आयु के खिलाड़ी बन गए।

19 जून 1958 को पेले 17 वर्ष और 249 दिनों की उम्र में किसी भी विश्व कप फाइनल मैच में खेलने वाले सबसे छोटी उम्र के खिलाड़ी बने. उन्होंने फाइनल में दो गोल किये जिसमें ब्राज़ील ने स्वीडन को 5-2 से हराया. उसका पहला गोल, जिसमें उन्होंने एक रक्षक के ऊपर से उछालकर सफाई से ‘वॉली शॉट’ लगाया था, विश्व कप के इतिहास में सबसे बढ़िया गोलों में से एक के रूप में चुना गया। जब मैच समाप्त हुआ तो वे मैदान में बेहोश हो गए और चिकित्सा कर्मचारियों द्वारा उनकी सुश्रूषा की गई। होश में आने के बाद वे विजय से अभीभूत थे और टीम के साथियों द्वारा बधाई देने के समय उनकी आंखें अश्रुपूरित थीं। उन्होंने टूर्नामेंट को चार मैचों में छह गोलों के साथ पूरा किया और रिकार्ड स्थापित करने वाले जस्ट फॉन्टेन के पीछे दूसरे स्थान के लिये वे बराबरी पर थे।

1958 के विश्व कप में पेले ने 10 नंबर की टी-शर्ट पहनना शुरू किया जिसने उन्हें अमर बना दिया. हाल ही में यह ज्ञात हुआ है कि वह घटना एक कुसंगठन का परिणाम थी: नेताओं ने खिलाड़ियों के शर्टों के नंबर नहीं भेजे थे और फीफा ने पेले के लिये 10 नंबर की शर्ट का चुनाव किया था, जो उस समय एक स्थानापन्न खिलाड़ी के रूप में खेल रहे थे।उस समय की प्रेस ने पेले को 1958 कप की सबसे महान उपलब्धि के रूप में सराहा था

1962 विश्व कप

पेले - 220px Pel C3 A9 jump 1958 - Pele biography – पेले की जीवनी

1958 विश्व कप फाइनल में स्वीडिश गोलकीपर कैली स्वेनसन के विरूद्ध गेंद के लिये लड़ते हुए पेले.

1962 विश्व कप के पहले मैच में मेक्सिको के विरूद्ध पेले ने पहला गोल बनाने में मदद की और फिर चार रक्षकों के आगे दौड़ कर दूसरा गोल बना डाला, जिससे उन्हें 2-0 की बढ़त मिल गई।चेकोस्लोवाकिया के विरूद्ध एक लंबी दूरी के शॉट की कोशिश करते समय वे जख्मी हो गए। इसके कारण वे टूर्नामेंट के शेष भाग में न खेल सके और कोच एवमोरे मोरीरा को उनकी टीम का सारे टूर्नामेंट का एकमात्र परिवर्तन करना पड़ा. उनके स्थान पर ऐमारिल्डो को लाया गया, जिसने बाकी के सारे टूर्नामेंट में अच्छा प्रदर्शन किया। फिर भी गैरिंचा ने नेतृत्व की भूमिका निभाई और ब्राज़ील को उनके दूसरे विश्व कप खिताब की ओर अग्रसर किया।

1966 विश्व कप

1966 विश्व कप अन्य बातों के साथ, बल्गेरियन और पुर्तगाली रक्षकों द्वारा पेले पर किये गए खूंखार हमले के लिये याद किया जाता है। केवल तीन मैच खेल कर, ब्राज़ील प्रथम राउंड में बाहर हो गया। पेले ने बल्गेरिया के विरूद्ध पहला गोल एक ‘फ्री किक’ के जरिये किया, लेकिन बल्गेरियन खिलाड़ियों द्वारा सतत हमले के कारण आई एक चोट के कारण वह हंगरी के विरूद्ध दूसरे खेल में भाग न ले सके. ब्राज़ील वह खेल हार गया और हालांकि पूरी तरह से स्वस्थ न होने पर भी पेले को वापस पुर्तगाल के विरूद्ध अंतिम महत्वपूर्ण मैच के लिये बुला लिया गया। उस खेल में जोआओ मोरेस ने पेले को बुरी तरह से घायल कर दिया, लेकिन फिर भी रेफरी जार्ज मैक्काबे द्वारा उन्हें मैदान में रहने दिया गया। को मैच के शेष भाग में लंगड़ते हुए रहना पड़ा क्यौंकि उन दिनों स्थानापन्न खिलाड़ियों को लाने की अनुमति नहीं थी। उस खेल के बाद उन्होंने कसम खाई कि वे दोबारा विश्व कप में नहीं खेलेंगे, एक ऐसा निश्चय जो उन्हें आगे चल कर बदलना पड़ा.

1970 विश्व कप

पेले को राष्ट्रीय टीम में 1969 के शुरू में बुलाया गया तो, पहले तो उन्होंने इनकार कर दिया, लेकिन बाद में हामी भर दी और विश्व कप के छह प्रवेश मैचों में खेले और छह गोल बनाए. मेक्सिको में हुआ 1970 विश्व कप पेले का आखरी विश्व कप था। टूर्नामेंट के लिये गठित ब्राज़ील के दल में 1966 के दल की तुलना में कई बड़े परिवर्तन किये गए थे। गैरिंचा, निल्टन सांटोस, वाल्दीर पेरेरा, जाल्मा सांटोस और गिल्मार जैसे खिलाड़ी पहले ही अवकाश ग्रहण कर चुके थे, लेकिन फिर भी पेले, रिवेलिनो, जैरज़िन्हो, जेरसन, कार्लास अल्बर्टो टोरेस, तोस्ताओ और क्लोडोएल्डो से युक्त टीम को व्यापक रूप से हमेशा की सबसे महान फुटबॉल टीमों में से एक माना जाता है।

पहले मैच में, चेकोस्लोवाकिया के विरूद्ध पेले ने जेरसन के लंबे पास को अपने सीने से नियंत्रित करके और फिर गोल दाग कर ब्राज़ील को 2-1 की बढ़त दिलवाई. इस मैच में पेले ने गोलकीपर आइवो विक्टर के ऊपर से बीच की रेखा से बाल को उछालने का दुस्साहसी प्रयत्न किया और चेकोस्लोवाक गोल में गेंद पहुंचते-पहुंचते रह गई। ब्राज़ील ने अंततः वह मैच 4-1 से जीत लिया। इंगलैंड के खिलाफ मैच के प्रथमार्ध में, उन्होंने सिर से मार कर गोल बना ही लिया था, पर उसे गोर्डन बैंक्स ने दर्शनीय तरीके से बचा लिया। द्वितीयार्ध में, उन्होंने मैच के एकमात्र गोल को बनाने में जैरजिन्हो की सहायता की. रोमानिया के विरूद्ध, उन्होंने एक सीधी ‘फ्री किक’ द्वारा गोल बना कर स्कोर की शुरूआत की, जो उनके दांये पांव के बाहरी हिस्से से लगाया गया एक शक्तिशाली शॉट था। उस मैच में उन्होंने एक और गोल बनाकर स्कोर को 3-1 पर पहुंचा दिया. वह मैच ब्राज़ील ने 3-2 के अंतिम स्कोर से जीत लिया। पेरू के विरूद्ध क्वार्टरफाइनल में ब्राज़ील ने 4-2 से जीत हासिल की, जिसमें पेले ने तोस्ताओ को ब्राज़ील का तीसरा गोल बनाने में मदद की. सेमीफाइनल में, ब्राज़ील ने 1950 के विश्व कप फाइनल दौर के मैच के बाद पहली बार उरूग्वे का सामना किया। जिसमें जैरज़िन्हो ने ब्राज़ील को 2-1 से आगे कर दिया और 3-1 पर पहुंचने के लिये पेले ने रिवेलिनो की सहायता की. उस मैच में पेले ने अपने सबसे मशहूर खेलों में से एक का प्रदर्शन किया। तोस्ताओ ने पेले को एक सीधी गेंद दी और उरूग्वे के गोलरक्षक, लाडिस्लाओ मासुर्किएविच ने यह देख लिया। रक्षक पेले से पहले उस गेंद को लेने के लिये रेखा के बाहर दौड़ा, लेकिन पेले वहां पहले पहुंच गए और गेंद को छुए बिना, उसे रक्षक के आगे उसकी बांई ओर पहुंचा दिया, जबकि पेले दांयी ओर चले गए। पेले ने गोलरक्षक के सामने से घूमकर और गोल की तरफ पलटने के समय शाट लगा दिया, लेकिन शाट लगाते समय वे कुछ ज्यादा घूम गए जिससे गेंद गोल से जरा सा परे होकर निकल गई।

ब्राज़ील ने फाइनल में इटली के विरूद्ध खेला, जिसमें पेले ने इतालवी रक्षक टार्सिसियो बर्गनिच के ऊपर से सिर से मार कर पहला गोल बनाया. उन्होंने फिर जैरज़िन्हो और कार्लास अल्बर्टो के गोलों को बनाने में मदद की, जिसमें से दूसरा गोल एक प्रभावशाली सामूहिक खेल के बाद बनाया गया। ब्राज़ील ने वह मैच 4-1 से जीता, जिससे जूल्स रिमेट ट्राफी अनिश्चित काल के लिये उनके कब्जे में आ गई। बर्गनिच, जिसने पेले को मैच के समय चिन्हित किया था, को यह कहते उद्धृत किया गया, “मैने मैच के पहले अपने आप से कहा था कि वह भी हर औरों की तरह हाड़-मांस का बना है – लेकिन मैं गलत था .”

पेले का अंतिम अंतर्राष्ट्रीय मैच 18 जुलाई 1971 को युगोस्लाविया के विरूद्ध रियो डी जेनीरो में हुआ। पेले के मैदान में रहते हुए, ब्राज़ील की टीम का रिकार्ड था, 67 विजय, 14 अनिर्णीत और 11 पराजय और उन्होंने तीन विश्व कप जीते. पेले और गैरिंचा के मैदान में रहते ब्राज़ील ने कभी कोई मैच नहीं हारा था। गैरिंचा द्वारा हारा गया एकमात्र अंतर्ऱाष्ट्रीय मैच 1966 में हंगरी के विरूद्ध था, जिसमें पेले ने जख्मी होने के कारण नहीं खेला था।

दक्षिण अमरीकी चैम्पियनशिप

पेले दक्षिण अमरीकी चैम्पियनशिप में भी खेले थे। 1959 की स्पर्धा में वे आठ गोलों के साथ सबसे अधिक स्कोर करने वाले खिलाड़ी थे, जब ब्राज़ील टूर्नामेंट में दूसरे स्थान पर रहा.

परिवार

21 फ़रवरी 1966 को पेले ने रोज़मेरी डॉस रेइस चॉल्बी से विवाह किया। उनकी दो पुत्रियां – केली क्रिस्टीना (13 जनवरी 1967) और जेनिफर (1978) – और एक पुत्र एडसन (“एडिन्हो” – नन्हा एडसन, 27 अगस्त 1970) है। इस युगल ने 1978 में तलाक ले लिया।

अप्रैल 1994 से पेले एक मनोवैज्ञानिक और गॉस्पेल गायिका एस्सीरिया लेमॉस सीक्सास से विवाहित हैं, जिसने 28 सितंबर 1996 को प्रजननवैज्ञानिक उपचार द्वारा जोशुआ और सेलेस्टे नामक जुड़वा बच्चों को जन्म दिया.

फुटबॉल के बाद

पेले - 220px Pel C3 A9 26 Lula - Pele biography – पेले की जीवनी

2008 में पैलेसियो डो प्लानाल्टो में, 1958 में ब्राज़ील द्वारा पहला विश्व कप खिताब जीतने के 50 वर्ष पूरे होने पर समारोह में राष्ट्रपति लुइस इनासियो लूला दा सिल्वा और पेले.

लंबे अर्से के मित्र और फैशन व्यवसायी जोस अल्वेस डी अराउजो द्वारा बनाई और अपनाई गई कम्पनी, प्राइम लाइसेंसिंग आजकल पेले ब्रांड का संचालन करती है, जिनमें प्यूमा एजी, पेलेस्टेशन, क्यूवीसी (QVC), फ्रीमेंटल मीडिया, पेले एल उओमो और पेले अरेना कॉफी हाउज़ेज़ आदि शामिल हैं

फुटबॉल के बाद पेले के जीवन का सबसे खास क्षेत्र है, विभिन्न संस्थाओं के साथ उनका राजदूतात्मक कार्य. 1992 में पेले को पारिस्थिकी और पर्यावरण के लिये संयुक्त राष्ट्र का राजदूत नियुक्त किया गया।

उन्हें 1995 में क्रीड़ा के क्षेत्र में विशेष सेवाओं के लिये ब्राज़ील के स्वर्ण पदक से सम्मानित किया गया। ब्राज़ीली राष्ट्रपति फर्नांडो हेनरिक कार्दोसो ने उन्हें क्रीड़ा के विलक्षण मंत्री के पद पर नियुक्त किया और उन्हें युनेस्को सद्भावना राजदूत बना दिया गया। उस समय उन्होंने ब्राज़ीली फुटबॉल में भ्रष्टाचार को कम करने के लिये एक कानून प्रस्तावित किया, जिसे पेले कानून के नाम से जाना जाता है। पेले ने एक भ्रष्टाचार के मामले में लिप्त होने के आरोप के बाद 2001 में वह पद छोड़ दिया, हालांकि अभी तक कुछ भी सिद्ध नहीं हो पाया है। 1997 में उन्हें एक सम्माननीय नाइट कमांडर ऑफ दि आर्डर ऑफ दि ब्रिटिश एम्पायर बनाया गया।

 

ब्रामाल लेन पर शेफील्ड की 150 वीं वर्षगांठ मनाते हुए पेले

पेले ने 2002 में प्रीमियर लीग क्लब फुलहैम के लिये स्काउट का कार्य किया। उन्हें 2006 फीफा विश्व कप फाइनलों के लिये प्रवेश के योग्य समूहों के लिये ड्रा निकालने के लिये चुना गया।

पेले ने कई आत्मकथाओं का प्रकाशन किया है, डाक्यूमेंटरी और अर्ध-डाक्यूमेंटरी फिल्मों में सितारे बने हैं और अनेकों संगीत रचनाएं बनाई हैं, जिनमें 1977 की फिल्म पेले का समूचा संगीत शामिल है। वे दूसरे विश्वयुद्ध के जर्मन युद्ध के कैदियों के शिविर से बच निकलने की कोशिश के बारे में बनाई गई 1981 की फिल्म एस्केप टू विक्टरी में, 1960 और 1970 के दशकों के अन्य फुटबॉल खिलाड़ियों सहित माइकेल केन और सिल्वेस्टर स्टालोन के साथ देखे गए।

पेले - 220px Pel C3 A9 C3 81frica do Sul 2010 3 - Pele biography – पेले की जीवनी

10 जून 2010 को 2010 विश्व कप के दौरान दक्षिण अफ्रीका में पेले

पेले ने 2006 में एक बड़ी आत्मकथा की पुस्तक के सौदे पर हस्ताक्षर किये, जिसके फलस्वरूप यूके के विलास-पुस्तकों के प्रकाशक ग्लोरिया द्वारा निर्मित एक विराट आकार की 45 सेमी x 35 सेमी, 2500 इकाई की सीमित-एडिशन संग्रहणीय पुस्तक “पेले” का प्रकाशन किया गया, जो फुटबॉल की सर्वप्रथम “बड़ी पुस्तक” थी। पेले ने बीबीसी से लाइफटाइम अचीवमेंट अवार्ड प्राप्त किया और जून 2006 में, सुपरमाडल क्लाडिया शिफर के साथ 2006 के फीफा विश्व कप फाइनलों के उद्घाटन में सहायता की. पेले ने वियाग्रा के विज्ञापन और नपुंसकता के बारे में जानकारी बढ़ाने में भी मदद की है।

पेले नवंबर 2007 में दुनिया के सबसे पुराने फुटबॉल क्लब, शेफील्ड के इंटर मिलान के विरूद्ध खेले गए 150वें एनिवर्सरी मैच में विशेष अतिथि थे। इंटर ने वह मैच ब्रेमाल लेन में करीब 19000 लोगों के सम्मुख 5-2 से जीता. अपनी यात्रा के एक हिस्से के रूप में पेले ने एक प्रदर्शनी का उदाघाटन किया जिसमें 40 वर्षों में पहली बार मूल हस्तलिखित नियमों का जनता के सामने प्रदर्शन शामिल था।

2009 में, उन्होंने डबल्यूआईआई (Wii) के लिये आर्केड फुटबॉल खेल Academy of Champions: Soccer के लिये यूबीसाफ्ट के साथ सहयोग किया और उस खेल में उसके खिलाड़ियों के प्रशिक्षक के रूप में भी सम्मिलित हुए.

1 अगस्त 2010 को, पेले को मेजर लीग साकर में एक टीम उतारने के उद्धेश्य से पुनर्जीवित न्यूयॉर्क कॉस्मॉस (2010) के सम्माननीय अध्यक्ष के रूप में प्रस्तुत किया गया।

व्यक्तिगत

 

  • सांटोस
    • कोपा लिबेर्टाडोरेस टॉप स्कोरर (1): 1965.
    • कैम्प्योनाटो पॉलिस्ता टॉप स्कोरर (11): 1957, 1958, 1959, 1960, 1961, 1962, 1963, 1964, 1965, 1969, 1973.

  • ब्राजील
    • कोपा अमेरिका टॉप स्कोरर (1): 1959.
  • बीबीसी (BBC) स्पोर्ट्स पर्सोनालिटी ऑफ़ द इयर ओवरसीस पर्सोनालिटी:
    • विजेता (1): 1970
  • फीफा विश्व कप (सर्वश्रेष्ठ युवा खिलाड़ी):
    • विजेता (1): 1958
  • फीफा विश्व कप (सिल्वर बूट): 1958
  • फीफा विश्व कप सिल्वर बॉल: 1958
  • फीफा विश्व कप के गोल्डन बॉल (सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ी)
    • विजेता (1): 1970
  • एथलीट ऑफ़ द सेंचुरी वर्ल्ड वाइड पत्रकारों द्वारा निर्वाचित और फ्रेंच डेली एल’एक्विप द्वारा चुनाव: 1981
  • साउथ अमेरिकन फुट्बॉलर ऑफ़ द इयर: 1973
  • 1993 में अमेरिकी नैशनल सॉकर हॉल ऑफ फेम में शामिल हुए
  • ब्रिटिश साम्राज्य के नाइट कमांडर: 1997
  • 1989 में डीपीआर (DPR) कोरिया ने पेले को चित्रित करते हुए एक डाक टिकट जारी किया।
  • रायटर्स समाचार एजेंसी द्वारा एथलीट ऑफ़ द सेंचुरी : 1999
  • इंटरनैशनल ओलंपिक कमिटी द्वारा एथलीट ऑफ़ द सेंचुरी निर्वाचित: 1999
  • यूनिसेफ (UNICEF) फुटबॉल प्लेयर ऑफ़ द सेंचुरी : 1999
  • टाइम मैगज़ीन वन ऑफ़ द 100 मोस्ट इम्पोर्टेंट पीपल ऑफ़ द 20थ सेंचुरी: 1999
  • फीफा (FIFA) प्लेयर ऑफ़ द सेंचुरी : 2000 (दृश्य:
  • फुटबॉल प्लेयर ऑफ़ द सेंचुरी, फ़्रांस फुटबॉल के गोल्डन बॉल विजेता : 1999
  • आईएफएफएचएस (IFFHS) इंटरनैशनल फेडरेशन ऑफ़ फुटबॉल हिस्ट्री एंड स्टैटिस्टिक्स द्वारा फुटबॉल प्लेयर ऑफ़ द सेंचुरी : 1999
  • आईएफएफएचएस (IFFHS) इंटरनैशनल फेडरेशन ऑफ़ फुटबॉल हिस्ट्री एंड स्टैटिस्टिक्स द्वारा साउथ अमेरिका फुटबॉल प्लेयर ऑफ़ द सेंचुरी : 1999
  • दक्षिण अफ़्रीकी राष्ट्रपति नेल्सन मंडेला द्वारा लौरियस वर्ल्ड स्पोर्ट्स अवॉर्ड्स लाइफटाइम अचीवमेंट अवॉर्ड्स: 2000

दिसंबर 2000 में, पेले और मैराडोना ने फीफा द्वारा दिये गए शताब्दी के फीफा खिलाड़ी के पुरस्कार की साझेदारी की. यह पुरस्कार मूल रूप से एक इंटरनेट पर किये गए चुनाव के मतों के आधार पर दिया जाना था, लेकिन जब ऐसा लगने लगा कि यह डियेगो मैराडोना के पक्ष में जाने वाला है, तो कई पर्यवेक्षकों ने शिकायत की कि चुनाव की इंटरनेट प्रकृति का अर्थ उन युवा दर्शकों की सीमित राय को हासिल करना था, जिन्होंने मैराडोना को तो खेलते देखा होगा, लेकिन पेले को नहीं. तब फीफा ने पुरस्कार के विजेता का चयन करने के लिये फीफा के सदस्यों की एक फुटबॉल – परिवार समिति नियुक्त की. उस समिति ने पेले को चुना. लेकिन चूंकि मैराडोना इंटरनेट चुनाव जीत रहा था, इसलिये उसे और पेले को साझेदारी में पुरस्कृत किये जाने का निर्णय किया गया।

  • अंतर्राष्ट्रीय ओलिम्पिक समिति “शताब्दी का एथलीट”
  • बीबीसी स्पोर्ट्स पर्सनालिटी ऑफ दि इयर लाइफटाइम अचीवमेंट अवॉर्ड:
    • विजेता (1): 2005

मीडिया सामंजस्य और विशेषज्ञ चुनाव ने पेले को सभी समय के लिए महानतम फुटबॉलर का पद दिया है।

करियर की सांख्यिकी

गोल बनाने और प्रदर्शन का रिकॉर्ड

 

मई 1960 को माल्मो-ब्राज़ील 1-7 के दौरान एक रक्षक के पार गेंद को निकालते हुए पेले.पेले ने 2 गोल बनाए.

पेले के गोलों का रिकार्ड अकसर 1363 खेलों में 1280 गोलों के रूप में प्रस्तुत किया जाता है।[71] इस संख्या में पेले द्वारा गैर-स्पर्धात्मक क्लब मैचों में बनाए गए गोल भी शामिल हैं, उदा., पेले द्वारा सांटोस और न्यूयार्क कॉस्मॉस के साथ खेले गए अंतर्राष्ट्रीय दौरे और पेले द्वारा सशस्त्र सेनाओं के लिये ब्राज़ील में अपनी राष्ट्रीय सेवा के समय खेले गए कुछ खेल

नीचे दी गई तालिकाएं पेले द्वारा सांटोस और न्यूयार्क कॉस्मॉस के लिये मुख्य क्लब स्पर्धाओं में बनाए गए प्रत्येक गोल को रिकार्ड करती हैं। ब्राज़ील में पेले के अधिकांश खेल करियर के दौरान कोई राष्ट्रीय लीग चैम्पियनशिप नहीं थी। 1960 के बाद से ब्राज़ीली फुटबॉल कॉनफेडरेशन को उस समय नए कोपा लिबेर्टाडोरेस, जो मोटे तौर पर यूरोपियन कप के तुल्य एक दक्षिण अमरीकी अंतर्राष्ट्रीय क्लब स्पर्धा थी, के लिये उच्च कोटि की प्रविष्टियां उपलब्ध करानी होती थीं। उन्हें ऐसा करने में सहायता के लिये सीबीएफ (CBF) ने दो राष्ट्रीय स्पर्धाओं का आयोजन किया: टाका डी प्राटा और टाका ब्रासिल. एक राष्ट्रीय लीग चैम्पियनशिप, कैम्पियोनाटो ब्रासिलियेरो, पहली बार 1971 में, पारम्परिक प्रांतीय व अंतर्प्रांतीय स्पर्धाओं, जैसे कैम्पियोनाटो पालिस्टा और टोर्नियो रियो-साओ पालो के साथ खेली गई।

अभिनय और फिल्म करियर

  • ओएस एस्ट्रेन्होस (1969) (टीवी श्रृंखला)
  • ओ बराओ ओटेलो नो बरातो डॉस बिल्होस (1971)
  • ए मार्चा (1973)
  • ओएस ट्रोम बैडीनहस (1978)
  • एस्केप टू विक्ट्री (1981)
  • अ माइनर मिरैकल (1983)
  • पेड्रो मिको (1985)
  • ओएस ट्रपलहोज़ ए ओ रे फुटेबोल (1986)
  • हॉटशॉट (1987)
  • सोलिदाव, उमा लिंडा हिस्टोरिया डी अमोर (1990)
  • माइक बैसेट: इंग्लैंड प्रबंधक (2001)
  • ईएसपीएन (ESPN) स्पोर्ट्स सेंचुरी (2004)
  • पेले एटेर्नो (2004) – पेले के करियर के बारे में एक वृत्तचित्र

सांस्कृतिक संदर्भ

  • 1989 में डीपीआर कोरिया ने पेले को दर्शाते हुए एक डाक टिकट जारी किया।
  • प्रास द्वारा गीत “घेटो सुपास्टार” में पेले का उल्लेख किया गया है।
  • पेशेवर कुश्तीबाज एजे स्टाइल्स ने अपने बैकफ्लिप हेड-किक को “द पेले” नाम दिया है।
  • फिल्म किकिंग एंड स्क्रीमिंग में विल फेरेल द्वारा अभिनीत भूमिका में फिल अपने पिता के साथ अपने पिता की पेले गेंद को हथियाने के लिये स्पर्धा करता है।

Pele Quotes in Hindi

फ़ुटबाल के जादूगर पेले के best thoughts का संग्रह.

Name Edson Arantes do Nascimento /एडसन  अरंट्स डू नसीमेंटो  Popularly known as Pele / पेले 
Born 21 October 1940 , Três Corações, Brazil
Field Sports, Football Player
Nationality Brazilian
Achievement Regarded as best football player ever.  During his career, he became known as “The Black Pearl”  “The King of Football”,and “The King Pelé”. Holds Guinness World Records for most career goals scored in football.He won three FIFA World Cups; 1958, 1962 and 1970, the only player ever to do so.

पेले के अनमोल कथन

 

Quote 1: Sport is something that is very inspirational for young people.

In Hindi: खेल कुछ ऐसा है जो युवाओं के लिए बेहद प्रेरणादायक है।

Pele पेले

Quote 2: Brazil eats, sleeps and drinks football. It lives football!

In Hindi: ब्राज़ील फुटबॉल खाता, सोता और पीता है। यह फुटबॉल जीता है।

Pele पेले

Quote 3: A lot of people, when a guy scores a lot of goals, think, ‘He’s a great player’, because a goal is very important, but a great player is a player who can do everything on the field. He can do assists, encourage his colleagues, give them confidence to go forward. It is someone who, when a team does not do well, becomes one of the leaders.

In Hindi: बहुत से लोग सोचते हैं कि जो बहुत सारे गोल करता है, “वह एक महान खिलाड़ी है ” , क्योंकि गोल बहुत ज़रूरी है , लेकिन एक महान खिलाड़ी वो है जो मैदान में हर एक चीज कर सके।  वह साथी खिलाड़ियों की सहायता कर सके , उनका हौंसला बढ़ा सके , उनके अंदर आगे बढ़ने का आत्मविश्वास दे सके।  वो कोई ऐसा होता है , जो टीम के अच्छा ना करने पर , उसका लीडर बन सके।

Pele पेले

Quote 4:I always had a philosophy which I got from my father. He used to say, ‘Listen. God gave to you the gift to play football. This is your gift from God. If you take care of your health, if you are in good shape all the time, with your gift from God no one will stop you, but you must be prepared.

In Hindi: हमेशा से मेरी एक फिलोसोफी रही है जो मुझे मेरे पिता से मिली थी।  वो कहा करते थे , सुनो।  भगवान ने तुम्हे फुटबॉल खेलने का उपहार दिया है। ये भगवान की तरफ से तुम्हारा गिफ्ट है , अगर तुम अपनी सेहत का ध्यान रखो , अगर तुम हमेशा अच्छे शेप में रहो , तो भगवान के उपहार के साथ कोई तुम्हे रोक नहीं पायेगा, लेकिन तुम्हे तैयार रहना होगा।

Pele पेले

Quote 5:Enthusiasm is everything. It must be taut and vibrating like a guitar string.

In Hindi: उत्साह सबकुछ है।  ये गिटार के तार की तरह कसा और वाइब्रेट करता हुआ होना चाहिए।

Pele पेले

Quote 6:Wherever you go, there are three icons that everyone knows: Jesus Christ, Pele and Coca-Cola.

In Hindi: आप जहां भी जाएं, तीन प्रतीक हैं , जिन्हे हर कोई जानता है : यीशु मसीह, पेले और कोका कोला।

Pele पेले

Quote 7:If I pass away one day, I am happy because I tried to do my best. My sport allowed me to do so much because it’s the biggest sport in the world.

In Hindi: अगर मैं एक दिन मर जाऊं तो मैं ख़ुशी से जाऊँगा क्योंकि मैंने अपना सर्वश्रेष्ठ करने की कोशिश की।  मेरे खेल ने मुझे ऐसा करने दिया क्योंकि ये दुनिया का सबसे बड़ा खेल है।

Pele पेले

Quote 8:Everything on Earth is a game. A passing thing. We all end up dead. We all end up the same, don’t we?

In Hindi: पृथ्वी पर हर एक चीज एक खेल है। एक खत्म हो जाने वाली चीज।  हम सभी एक दिन मर जाते हैं।  हम सभी का एक ही अंत है , नहीं ?

Pele पेले

Quote 9:The bicycle kick is not easy to do. I scored 1,283 goals, and only two or three were bicycle kicks.

In Hindi: बाइस्किल किक करना आसान नहीं है।  मैंने  1,283 गोल दागे, और केवल दो या तीन ही बाइस्किल किक्स थे।

Pele पेले

Quote 10:Everything is practice.

In Hindi: अभ्यास ही सबकुछ है।

Pele पेले

Best Inspiring Pele Quotes in Hindi

Quote 11:A penalty is a cowardly way to score.

In Hindi: पेनाल्टी गोल करने का कायरतापूर्ण तरीका है।

Pele पेले

Quote 12:I don’t think I’m a very good businessman. I act too much with my heart.

In Hindi: मुझे नहीं लगता की मैं एक बहुत अच्छा बिजनेसमैन हूँ।  मैं बहुत अधिक अपने दिल से काम करता हूँ  ।

Pele पेले

Quote 13:You must respect people and work hard to be in shape. And I used to train very hard. When the others players went to the beach after training, I was there kicking the ball.

In Hindi: आपको लोगों का सम्मान करना चाहिए और शेप में रहने के लिए कड़ी मेहनत करनी चाहिए।  और मैं बहुत मेहनत से प्रशिक्षण लिया करता था।  जब बाकि खिलाड़ी ट्रेनिंग के बाद बीच पर चले जाया करते थे , तब भी मैं वहां बॉल किक किया करता था।

Pele पेले

Quote 14: I represent Brazil all over the world. Wherever I go I have to do my best, to not disappoint the Brazilian people. And that I’ve done.

In Hindi: मैं पूरी दुनिया में ब्राज़ील का प्रतिनिधित्त्व करता हूँ। मैं जहाँ भी जाता हूँ मुझे अपना सर्वश्रेष्ठ देना होता है, ताकि मैं ब्राजील के लोगों को निराश ना करूँ।  और मैंने  यही किया है।

Pele पेले

Quote 15: I am constantly being asked about individuals. The only way to win is as a team. Football is not about one or two or three star players.

In Hindi: मुझसे लगातार व्यक्ति विशेष के बारे में पूछा जाता है।  जीतने का एक ही तरीका है टीम के रूप में जीतो। फुटबॉल एक दो या तीन स्टार खिलाड़ियों के बारे में नहीं है।

Pele पेले

Quote 16: I always think that I would have become an actor if I hadn’t been a soccer player.

In Hindi: मैं हमेशा सोचता हूँ की अगर मैं एक सॉकर प्लेयर नहीं होता तो एक अभिनेता बन जाता।

Pele पेले

Quote 17: I sometimes lie awake at night and wonder why I am still so popular and, to be honest, I don’t know.

In Hindi: मैं कभी-कभी रात में लेते-लेते सोचता हूँ कि मैं अभी भी इतना प्रसिद्द क्यों हूँ और ईमानदारी से कहूँ तो मुझे नहीं पता।

Pele पेले

Quote 18: No doubt, I am earning more money with my endorsements than I ever earned playing soccer.

In Hindi: इसमें कोई शक नहीं कि मैंने कभी जितना पैसा फुटबॉल खेल के नहीं कमाया उससे अधिक विज्ञापन कर के कमा रहा हूँ।

Pele पेले

Quote 19: Pele doesn’t die. Pele will never die. Pele is going to go on for ever.

In Hindi: पेले मरता नहीं है।  पेले कभी नहीं मरेगा।  पेले हमेशा-हमेशा के लिए रहेगा।

Pele पेले

Did you like this Amazing india Facts on “articletitle” Please share your comments.

Like US on Facebook

         

यदि आपके पास Hindi में कोई article,motivational story, business idea,Shayari,anmol vachan,hindi Famous Peoples Biography In Hindi, प्रसिद्ध लोगों की जीवनी या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें. हमारी Id है:[email protected].पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ PUBLISH करेंगे.

Read Also Hindi Biorgaphy Collection
Read Also Hindi Quotes collection
Read Also Hindi Shayaris Collection
Read Also Hindi Stories Collection
Read Also Whatsapp Status Collection In Hindi 

Thanks!

Read  Hindi Biorgaphy (जीवनी) Collection  of महापुरुषों की जीवनी ,famous singers,famous personalities of india,famous celebrities and Sports persons.

जीवनी ,Biography,hindi motivational story,inspiring real life story

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here