राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी | Pranab Mukherjee Biography In Hindi

0
45

राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी | Pranab Mukherjee Biography In Hindi

राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी | Pranab Mukherjee Biography In Hindi
राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी | Pranab Mukherjee Biography In Hindi

Pranab Mukherjee – प्रणब मुखर्जी देश के 13वें राष्ट्रपति हैं जिन्होंने जुलाई 2012 से पद संभाला है. इससे पहले वे छह दशकों तक राजनीति में सक्रिय रहे हैं और उन्हें कांग्रेस का संकटमोचक माना जाता है.

अस्सी वर्षय Pranab Mukherjee विदेशी मंत्री, रक्षा मंत्री, वाणिज्य मंत्री और वित्त मंत्री के रूप में अलग-अलग समय पर सेवा की वे दुर्लभ विशिष्टा के साथ शासन में अद्वितीय अनुभव वाले इंसान है. वे 1969 से राज्य सभा के लिए 5 बार चुने गए थे ओर 2 बार लोक सभा के लिए 2004 में चुने गए थे. वे कांग्रेस वर्किंग समिति के सदस्य भी थे जो 23 वर्षो से सबसे ज्यादा निति बनाने वाली पार्टी है.

नई दिल्ली में 2009 में हुए आर्थिक सम्मेलन में प्रणव मुखर्जी

भारत के राष्ट्रपति
पदस्थ
कार्यालय ग्रहण 
25 जुलाई 2012
प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह
नरेंद्र मोदी
उप राष्ट्रपति मोहम्मद हामिद अंसारी
पूर्वा धिकारी प्रतिभा पाटिल

भारत के वित्त मंत्री
पद बहाल
24 जनवरी 2009 – 26 जून 2012
प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह
पूर्वा धिकारी मनमोहन सिंह
उत्तरा धिकारी मनमोहन सिंह
पद बहाल
15 जनवरी 1982 – 31 दिसम्बर 1984
प्रधानमंत्री इंदिरा गाँधी
राजीव गाँधी
पूर्वा धिकारी रामास्वामी वेंकटरमण
उत्तरा धिकारी विश्वनाथ प्रताप सिंह

भारत के विदेश मंत्री
पद बहाल
10 फरबरी 1995 – 16 मई 1996
प्रधानमंत्री पी.वी. नरसिम्हा राव
पूर्वा धिकारी दिनेश सिंह
उत्तरा धिकारी सिकन्दर बख्त

भारत के रक्षा मंत्री
पद बहाल
22 मई 2004 – 26 अक्टूबर 2006
प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह
पूर्वा धिकारी ज्योर्ज फ़र्नान्डिस
उत्तरा धिकारी ए. के. एंटोनी

भारतीय योजना आयोग के उपाध्यक्ष
पद बहाल
24 जून 1991 – 15 मई 1996
प्रधानमंत्री पी॰वी॰ नरसिम्हा राव
पूर्वा धिकारी मोहन धारिया
उत्तरा धिकारी मधु दण्डवते

जन्म 11 दिसम्बर 1935 (आयु 81 वर्ष)
ग्राम मिराती, बीरभूम जिला, ब्रिटिश भारत
राजनीतिक दल भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस (1969–86; 1989–2012)
Other political
affiliations
राष्ट्रीय समाजवादी काँग्रेस (1986 से 1989 तक)
जीवन संगी शुभ्रा मुखर्जी (विवाह 1957; निधन 2015)
बच्चे शर्मिष्ठा
अभिजीत
इन्द्रजीत
शैक्षिक सम्बद्धता कलकत्ता विश्वविद्यालय
धर्म हिन्दू
सम्मान पद्म विभूषण (2008)

भारत के राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी – Pranab Mukherjee Biography In Hindi

2004 से 2012 के बिच में Pranab Mukherjee ने सरकार को कई बड़े निर्णय लेने में सहायता की जैसे प्रशासनिक सुधारों, राईट टू इनफार्मेशन, राईट टु एम्प्लॉयमेंट, खाद्य सुरक्षा, सूचना प्रौद्योगिकी और दूरसंचार, UIDAI को शुरू करने में, मेट्रो रेल आदी में. 70 और 80 के दशक में मुख्रेजी ने रीजनल रूलर बैंक की स्थापना की और EXIM बैंक की भी स्थापना की जो एक अंतर्राष्ट्रीय बैंक थी.उन्होंने 1991 में गाडगिल फार्मूला भी बनाया था.

एक शक्तिशाली वक्ता और विद्वान, श्री Pranab Mukherjee बौद्धिक और राजनीतिक कौशल के रूप में अच्छी तरह के रूप में उल्लेखनीय ज्ञान के अंतरराष्ट्रीय संबंधों वित्तीय मामलों और संसदीय प्रक्रिया को व्यापक रूप से प्रशंसा की. वो समाजस्य बिल्डर राष्ट्र के कठिन मुद्दों के निर्णय लेने में निश्चित ही तालियों के हक़दार है.

श्री Pranab Mukherjee का जन्म मिरती पश्चिम बंगाल में 11 दिसम्बर 1935 में हुआ. उनके पिता का नाम कमादा किंकर मुखर्जी और माता का नाम राजलक्ष्मी मुखर्जी था. उनके पिता एक स्वतंत्रता सेनानी थे. उनके पिता एक कांग्रेसी थे. वे कई बार जेल जा चुके थे. उन्होंने इतिहास, राजनीती विज्ञान, वकालत की मास्टर डिग्री कोलकाता विश्विद्यालय से ली थी. उन्होंने अपना करिअर कॉलेज के प्राध्यापक के रूप में शुरू किया. बादमे पत्रकारिता भी की. अपने सहकर्मियों से प्रभावित होकर वे राजनीती में आए. व् 1969 में राज्य सभा के लिए संसद चुने गए.

प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी जी के नेतृत्व में अपना राजनितिक पद जल्दी ही उन्होंने विस्तारित करवा लिया. 1973 से 1974 के बिच में उन्होंने, उप मंत्री, उद्योग मंत्री, वाहन और नववाहन मंत्री, इस्पात उद्योग मंत्री का कार्य किया. 1982 में पहली बार वित्त मंत्री बने. 1980 से 1985 के बिच में राज्य सभा में रहे. 1991 से 1996 के बिच में विदेशी मंत्री रहे. 1993 से 1995 के बिच वाणिज्य विभाग में काम किया. 2004 से 2006 के बिच में रक्षा मंत्री रहे. 2006 से 2009 में वे पुन्ह विदेश मंत्री बने. 2009 से 2012 में वे फिर वित्त मंत्री बने. और 2004 से 2012 में लोक सभा के सदस्य रहे.

श्री Pranab Mukherjee आइमफ वर्ल्ड बैंक के, एशियन डेवलपमेंट बैंक के और अफ्रीकन डेवलपमेंट बैंक के बोर्ड ऑफ़ गवर्नर बने. बादमे उन्होंने कॉमनवेल्थ गेम का वित्तय भार सम्भाला. उन्होंने भारतीय अर्थ व्यवस्था और राष्ट्रीय उत्थान के बारे में पुस्तक प्रकाशित की और उन्हें अपने जीवन में कई पुरस्कार भी मिले. पद्मभूषण 2008 में, बेस्ट पार्लियामेंट्रीयन अवार्ड 1997 में, बेस्ट पर्सन ऑफ़ इंडिया अवार्ड मिला. उन्होंने 2013 में यूनिवर्सिटी ऑफ़ ढाका से वकालत के लिए डॉक्टर का सम्मान प्राप्त किया. वे अल्कड्स यूनिवर्सिटी से भी सम्मानित हुए. वे विश्व के प्रसिद्ध 5 वित्त मंत्रीयो में से एक कहलाये. 1984 में न्यू यॉर्क के यूरो मनी जनरल प्रकाशक के सर्वे द्वारा. इमर्जिंग मार्किट से उनको 2010 में एशिया का वित्त मंत्री ऑफ़ दी इयर अवार्ड मिला. उनकी शादी शुवा मुखर्जी से हुई जो एक सिंगर थी. उनको 2 पुत्र और 1 पुत्री है. उन्हें अपना समय पुस्तक पढने में, गाने सुनने में व्यतीत करना पसंद है.

प्रणब मुखर्जी का जीवन परिचय,प्रणब मुखर्जी पिछले कार्य काल,प्रणब मुखर्जी मराठी,शुभ्रा मुखर्जी,प्रणव का अर्थ,प्रणब मुखर्जी राष्ट्रपति,प्रणब मुखर्जी मिराती,प्रणब मुखर्जी का कार्यकाल

 

Please Note :- अगर आपके पास Pranab Mukherjee Biography In Hindi मैं और Information हैं, या दी गयी जानकारी मैं कुछ गलत लगे तो तुरंत हमें कमेंट मैं लिखे हम इस अपडेट करते रहेंगे. धन्यवाद…
*अगर आपको हमारी Information About Pranab Mukherjee In Hindi अच्छी लगे तो जरुर हमें Facebook पे Like और Share कीजिये.
Note:- E-MAIL Subscription करे और पायें Essay On Pranab Mukherjee In Hindi आपके ईमेल पर.
* कुछ महत्वपूर्ण जानकारी प्रणब मुखर्जी के बारे में विकिपीडिया से ली गयी है.

 

राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी | Pranab Mukherjee Biography In Hindi
प्रणब मुखर्जी राष्ट्रपति
प्रणब मुखर्जी का जीवन परिचय
प्रणब मुखर्जी मराठी
प्रणब मुखर्जी का कार्यकाल
प्रणब मुखर्जी पिछले कार्य काल
राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी का कार्यकाल
शुभ्रा मुखर्जी
प्रणब मुखर्जी मिराती

प्रणब मुखर्जी का जीवन परिचय
प्रणब मुखर्जी राष्ट्रपति
प्रणब मुखर्जी मराठी
प्रणब मुखर्जी का कार्यकाल
प्रणब मुखर्जी पिछले कार्य काल
राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी का कार्यकाल
शुभ्रा मुखर्जी
प्रणब मुखर्जी मिराती
प्रणब मुखर्जी the dramatic decade the indira gandhi years

Get more stuff

नयी पोस्ट ईमेल में प्राप्त करने के लिए Sign Up करें

Thank you for subscribing.

Something went wrong.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here