रौनक सिंह की जीवनी – Raunaq Singh Biography in Hindi

उद्योगपति रौनक सिंह की जीवनी – Raunaq Singh Biography

raunaq-singh-biography-hindi raunaq singh - raunaq singh biography hindi - रौनक सिंह की जीवनी – Raunaq Singh Biography in Hindi

जन्म: 1922

संस्थापक: रौनक समूह, अपोलो टायर्स लिमिटेड, भारत गियर्स लिमिटेड, भारत स्टील ट्यूब्स लिमिटेड, रौनक इंटरनेशनल लिमिटेड, मेनारिणी रौनक फार्मा लिमिटेड और रौनक मोटर आदि के संस्थापक

रौनक सिंह की जीवनी – Raunaq Singh Biography in Hindi

Raunaq Singh एक प्रसिद्द भारतीय उद्योगपति और रौनक समूह के संस्थापक थे। विभाजन के बाद पाकिस्तान से भारत आने के बाद उनको बहुत कठिनाईयों का सामना करना पड़ा लेकिन उन्होंने अपने कठिन परिश्रम और लगन से एक सफल समूह की स्थापना की। विभाजन से पहले Raunaq Singh का लाहौर में स्टील पाइप्स का व्यवसाय था।  विभाजन के बाद वह 13 अन्य लोगों के साथ दिल्ली के गोल मार्केट में एक ही कमरे में रहा करते थे। दिल्ली में उन्होंने एक मसाले की दुकान ‘मुनिलाल बजाज एंड कंपनी’ में जीविका के लिए नौकरी की और उसके बाद अपनी पत्नी के गहने दिल्ली की चांदनी चौक में लगभग 8000 रूपए में बेचकर कोलकाता चले गए।

कोलकाता  जाकर उन्होंने मसाले का व्यापार किया परन्तु बाद में “भारत स्टील पाइप्स” की स्थापना की।

Raunaq समूह की प्रमुख कंपनियां हैं अपोलो टायर्स लिमिटेड, भारत स्टील ट्यूब्स लिमिटेड, भारत गियर्स लिमिटेड, मेनारिणी रौनक फार्मा लिमिटेड , रौनक इंटरनेशनल लिमिटेड और रौनक सिंह की रौनक मोटर वाहन| अप्पोलो टायर्स आज भारत के अग्रणी टायर निर्माताओं में से एक है। कंपनी की शुरुआत सन 1975 में छोटे स्तर से हुई जब उन्हें केरल सरकार से टायर बनाने का लाइसेंस मिला।

इसके बाद अपने अथक परिश्रम से उन्होंने धीरे-धीरे एक के बाद एक सफल उद्यम स्थापित किया। Raunaq Singh के जीवन में एक समय ऐसा भी था जब वह दो वक़्त की रोटी भी मुश्किल से जुटा पाते थे और उनके मृत्यु के समय उनके कंपनी समूह में लगभग 9000 कर्मचारी कार्य कर रहे थे।

Raunaq Singh आर्थिक उदारीकरण और वैश्वीकरण के एक बड़े समर्थक थे क्योंकि वह मानते थे की भारत विश्व के अन्य देशों के साथ तभी मुकाबला कर सकता है जब हमारे पास भी बड़े बाजार और उच्च तकनीक हो और यह उदारीकरण और वैश्वीकरण से ही संभव हो सकता था।

भारतीय उद्योगों को दुनिया के नक्से पर लाने के लिए उन्होंने अथक प्रयास किया। रौनक ने उद्योग और तमाम व्यापार संघों में कई महत्वपूर्ण पदों पर भी कार्य किया। उनमे से कुछ प्रमुख इस प्रकार हैं : फेडरेशन ऑफ़ इंडियन चैम्बर्स ऑफ़ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री (फिक्की) के अध्यक्ष, द एसोसिएटेड चैम्बर्स ऑफ़ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री (एसोचैम) के अध्यक्ष, इंजीनियरिंग एक्सपोर्ट प्रमोशन कौंसिल (EEPC) के अध्यक्ष, ऑटोमोटिव टायर्स मैन्युफ़ैक्चरर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष और फेडरेशन ऑफ़ इंडियन एक्सपोर्ट आर्गेनाईजेशन के अध्यक्ष।

देश के आर्थिक और औद्योगिक विकास में उनके योगदान को देखते हुए उन्हें कई सारे पुरस्कारों से सम्मानित किया गया। रौनक सिंह ने निर्यात को बढ़ाने के दिशा में भी कार्य किया।  निर्यात को बढ़ावा देने के लिए उनके झुकाव के कारण उन्हें “मिस्टर एक्सपोर्टर” भी कहा जाता था। आर्थिक और उद्योग जगत में उनके योगदान को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भी पहचान मिली और उन्हें तीन साल की अवधि के लिए पेरिस इंटरनेशनल चैंबर ऑफ़ कॉमर्स के कार्यकारी बोर्ड के एक सदस्य के रूप में निर्वाचित किया गया।

Raunaq Singh ने अपने बेटे, कंवर ओंकार सिंह को अपना उत्तराधिकारी बनाया।  उनके मृत्यु के समय रौनक ग्रुप का कुल टर्नओवर लगभग Rs.2,700 करोड़ था।

Did you like this Amazing india Facts on “रौनक सिंह की जीवनी –Raunaq Singh Biography in Hindi” Please share your comments.

Like US on Facebook

यदि आपके पास Hindi में कोई articles,motivational story, business idea,Shayari,anmol vachan,hindi Famous Peoples Biography In Hindi, प्रसिद्ध लोगों की जीवनी या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें. हमारी Id है:[email protected].पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ PUBLISH करेंगे.

Read Also Hindi Biorgaphy Collection

Read Also Hindi Quotes collection

Read Also Hindi Shayaris Collection

Read Also Hindi Stories Collection

Read Also Whatsapp Status Collection In Hindi 

Thanks!

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here