Razia Sultan Biography in hindi | रजिया सुल्तान जीवनी

0
86

Razia Sultan Biography in hindi | रजिया सुल्तान जीवनी

Razia Sultan History | रजिया सुल्तान जीवनी
Razia Sultan History | रजिया सुल्तान जीवनी

पूरा नाम  – जलॉलात उद-दिन रज़ियॉ
जन्म       – 1205
जन्मस्थान  – बदायूँ
पिता      – इल्तुतमिश ( Father of Razia Sultan )
माता      – कुतुब बेगम

रजिया सुल्तान जीवनी / Razia Sultan History

रजिया सुल्तान / Razia Sultan भारत की पहली शासिका थी | उसने लगभग 5 वर्षों तक दिल्ली की सल्तनत को संभाला | उसका पूरा कार्यकाल संघर्षों में बीता | रजिया गुलाम वंश के सुल्तान इल्तुतमिश की पुत्री थी | जिस समय रजिया गद्दी पर बैठी, उसके चारों  तरफ घोर संकट छाया हुआ था | दिल्ली सल्लनत के अमीर एवं दरबारी अपने ऊपर एक स्त्री का शासन होते नहीं देख सकते थे | इसलिए वह लगातार उसके विरुद्ध षड्यंत्र करते रहते थे |

रजिया एक साहसी, व्यवहार कुशल एवं दूरदर्शी महिला थी | इसलिए उसने धीरे-धीरे सरदारों को अपनी ओर मिलाना प्रारंभ  कर दिया |

प्रसिद्ध इतिहासकार मिन्हाज-उस-सिराज ने लिखा है, “रजिया एक महान शासक, कुशाग्र बुध्दी, न्यायप्रिय, हितकारी, विव्दानों की आश्रयदाता, प्रजा का कल्याण करने वाली एवं सामरिक गुणों को रखने वाली स्त्री शासक है |” गद्दी पर बैठते ही रजिया ने पर्दा उतार फेका और पुरूषों जैसे वस्त्र एवं चोगा धारण कर लिए | वह बड़े प्रभावशाली ढंग से अपना दरबार चलाती थी |

पंजाब, बंगाल, बिहार सहित देश के अधिकांश भाग उसके अधिकार में आ गए थे | दिल्ली में नुरुद्दीन के विद्रोह को जब उसकी सेना ने दबा दिया, तो इससे भयभीत होकर कई विरोधी उसकी ओर आ गए | रजिया के पतन के दो प्रमुख कारण माने जाते हैं | पहला, उसका स्त्री होना एवं दूसरा, एक एबीसीनिया निवासी दास जलालुद्दीन याकूत से उनकी अत्यधिक निकटता | इस बात को लेकर इब्नबतूता एवं फरिश्ता जैसे इतिहासकार उसपर मर्यादा भंग करने का आरोप लगाते हैं |

याकूत पर रजिया की विशेष कृपा दृष्टि थी | इससे तुर्क सरदार दोनों को घृणा से देखने लगे और अवसर पाते ही उन्होंने लोगों को भड़काकर विद्रोह कर दिया | सबसे पहले लाहौर, फिर भटिंडा में विद्रोह हुआ | रजिया ने लाहौर का विद्रोह सफलतापूर्वक दबा दिया | मगर जब भटिंडा के प्रशासन अल्तुनिया से युद्ध कर वह याकृत के साथ दिल्ली आ रही थी, तो 14 अक्तुबर, 1240 को मार्ग में उसका वध कर दिया गया |

एक स्त्री होते हुए भी रजिया ने जिस निडरता के साथ संकटो का सामना किया, उसके कारण ही सभी आधुनिक इतिहासकार उसकी प्रशंसा करते हैं | एक इतिहासकार ने तो यहां तक लिखा है कि “वह स्त्री होकर भी पुरुष का मस्तिष्क रखती थी एवं बीस पुत्रों से भी बढ़कर थी |”

मृत्यु   –  १४ अक्टूबर, १२४०

जरुर पढ़े…एक और महिला योद्धा :-  महारानी लक्ष्मीबाई

Note:-  आपके पास About Story Of Razia Sultan in Hindi मैं और Information हैं, या दी गयी जानकारी मैं कुछ गलत लगे तो तुरंत हमें कमेंट और ईमेल मैं लिखे हम इस अपडेट करते रहेंगे. धन्यवाद..
अगर आपको Life History Of Razia Sultana in Hindi Language अच्छी लगे तो जरुर हमें WhatsApp Status और Facebook पर Share कीजिये.
E-MAIL Subscription करे और पायें Essay With Short Biography About Razia Sultan In Hindi And More New Article ईमेल पर.

 These History Of Razia Sultan Used On :- Razia Sultan, Razia Sultan History In Hindi, रजिया सुल्तान की जीवनी, Razia Sultan Biography In Hindi

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here